मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया को नामांकन के बाद दिखाए गए काले झंडे

भोपालमध्यप्रदेश में राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) शुक्रवार की शाम जब वह हवाईअड्डे की ओर जा रहे थे, उस समय कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके काफिले को रोकने की कोशिश की. प्रदर्शनकारियोंने उन्हें काले झंडे भी दिखाए. दिल्ली से आए ज्योतिरादित्य सिंधिया दो दिन भोपाल में रहे. शुक्रवार की शाम जब वह हवाईअड्डे की ओर जा रहे थे, उस समय कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके काफिले को रोकने की कोशिश की. उनके हाथ में काले झंडे थे. विरोध जताने के लिए उन्होंने काले झंडे लहराए.

मध्यप्रदेश में राज्यसभा के लिए नामांकन भरे जाने की अंतिम तारीख को कमल नाथ के नेतृत्व वाली सरकार पर संकट के मंडराते बादल नहीं छंटे और सियासी पारा चढ़ा रहा. सत्ताधारी दल कांग्रेस और विरोधी दल भाजपा की कोशिशें जारी रही. पूरे दिन बेंगलुरू से विधायकों को आने का इंतजार रहा, मगर वे नहीं आए. राज्य की कमल नाथ सरकार को समर्थन देने वाले 22 विधायकों के इस्तीफे अब भी अबूझ पहेली बने हुए हैं. भाजपा का कहना है कि सरकार अल्पमत में आ चुकी है तो दूसरी ओर कांग्रेस ने बहुमत का दावा किया. इस्तीफा दे चुके 22 विधायकों में से 19 बेंगलुरू में हैं.

विधानसभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति (N.P. Prajapati) ने छह विधायकों को नोटिस जारी कर उपस्थित होने को कहा. प्रजापति ने कहा कि उन्होंने तीन घंटे तक विधायकों का इंतजार किया, मगर वे नहीं आए. शनिवार को उन्होंने सात विधायकों को बुलाया है.

मौजूदा राजनीतिक हालात को लेकर मुख्यमंत्री कमल नाथ (Kamal Nath) ने राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की. कमल नाथ ने भाजपा पर विधायकों को बंधक बनाने का आरोप लगाते हुए उन्हें मुक्त कराने की मांग की, साथ ही आरोप लगाया कि सरकार को अस्थिर करने के लिए भाजपा विधायकों की खरीद-फरोख्त करने में लगी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह विधानसभा में शक्ति-परीक्षण के लिए तैयार हैं.

दूसरी ओर, बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार के तौर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया, डॉ़ सुमेर सिंह सोलंकी एवं पूर्व मंत्री रंजना बघेल ने नामांकन पर्चा भरा. इस मौके पर भाजपा ने अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया. उसके बाद भाजपा के बड़े नेताओं, जिनमें सिंधिया, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, रामपाल व अन्य ने बैठक की, जिसमें अगली रणनीति पर चर्चा हुई.

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का कहना है कि कमल नाथ सरकार अल्पमत में आ गई है. वहीं पूर्व मंत्री माया सिंह का कहना है कि सिंधिया के आने से भाजपा को और ताकत मिलेगी.

ग्रेस की ओर से दो मंत्रियों जीतू पटवारी (Jitu Patwari) और लाखन सिंह यादव (Lakhan Singh Yadav) को बेंगलुरू भेजा गया था, दोनों शुक्रवार को भोपाल लौट आए. हालांकि दोनों खाली हाथ लौटे. उनका कहना है कि विधायकों को बेंगलुरू के एक रिसॉर्ट में बंधक बनाकर रखा गया है. विधायकों को उनके परिजनों से भी नहीं मिलने दिया जा रहा है.

Related Articles