बिहार में Black Fungus महामारी घोषित, चलंत RTPCR टेस्टिंग वैन को मिली हरी झंडी

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ब्लैक फंगस (Black Fungus) को महामारी घोषित किया है, इसके साथ ही कोरोना जांच के लिए चलंत "RTPCR टेस्टिंग वैन" को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया गया

पटना: बिहार (Bihar) में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ब्लैक फंगस (Black Fungus) म्यूकोरमाइकोसिस  को महामारी घोषित किया है। नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना जांच के लिए आज से चलन्त “RTPCR टेस्टिंग वैन” को रवाना किया गया है। नई महामारी ब्लैक फंगस के ईलाज हेतु दवा उपलब्ध करायी जा रही है। भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए हम सबकों को पूरी तरह सचेत एवं सतर्क रहना है। उन्होंने कहा कि सभी को डॉक्टरों की सलाह एवं सुझाव को मानना चाहिए तथा सरकार के गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए।

 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देशानुसार राज्य में ब्लैक फंगस बीमारी को ऐपिडमिक डिजिज एक्ट के तहत अधिसूचित किया गया है। निजी एवं सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों द्वारा म्यूकोरमायकोसिस मरीजों के मामले को सिविल सर्जन द्वारा स्वास्थ्य विभाग को प्रतिवेदित किया जाएगा। मरीजों को मुफ्त में दवा मिलेगी ।

चलंत कोरोना RTPCR  वैन, कोरोना जांच हेतु राज्य के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में घूम-घूम कर लोगों का RTPCR माध्यम से कोरोना का जांच करेगा।

Image

ब्लैक फंगस?

‘ब्लैक फंगस’ को म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) भी कहते है। इस बीमारी का समय पर इलाज नहीं हुआ तो मरीज की जान भी जा सकती या फिर मरीज की आंख निकालनी पड़ सकती है। ये बीमारी अधिकतर उन लोगों में ज्यादा होती है जो (Wet Condition) नमी वाले जगह में रहते है। जिनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होता है। जो शुगर के मरीज है। या ऐसी दवा लेते हो जो इम्यूनिटी (Immunity) को कमजोर करती हैं। ऐसे लोगों में ‘ब्लैक फंगस’ का खतरा और ज्यादा होता है।

लेकिन कोरोना वायरस के दूसरी लहर में ‘ब्लैक फंगस’ अचानक तेजी से फैल रही है। इसका मुख्य कारण यह है कि, कोरोना के सीरीयस मरीजों को डॉक्टर इलाज के दौरान स्टेरॉयड (Steroid tablets) टैब्लेट देते है इससे शुगर लेवल बढ़ता है। लेकिन इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। इसलिए कोरोना के मरीजों को ठीक होने के बाद ‘ब्लैक फंगस’ होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। इस वक्त ब्लैक फंगस के ज्यादातर मरीज वो हैं जो कोरोना (Corona) से ठीक हो चुके हैं।

‘ब्लैक फंगस’ (Black Fungus) के लक्षण-

  1. आंखों का लाल होना
  2. होठों पर सूजन
  3. थकान और सिर दर्द
  4. धड़कन तेज,
  5. सीने में दर्द होना
  6. हाथों और पैरों में सूजन
  7. शरीर पर गांठ बनना
  8. लगातार बुखार
  9. उल्टी और पेट दर्द
  10. त्वचा पर चकते
  11. बुखार और खांसी-जुकाम
  12. थकान और दस्त
  13. गले में खराश
  14. मांसपेशियों में दर्द
  15. सांस लेने में दिक्कत

Fungus से बचने के उपाय-

  1. दिल्ली AIIMS में न्यूरोलॉजी विभाग की डॉक्टर एमवी पद्म श्रीवास्तव के मुताबिक स्टेरॉयड नहीं लेना चाहिए।
  2. ओवर द काउंटर दवाएं नहीं लेना चाहिए।
  3. खुद से ही दवाई लेने से बचना चाहिए।
  4. मधुमेह यानी की शुगर के मरीज अपना शुगर कंट्रोल करें।
  5. एंटी बायोटिक दवाएं सोच-समझकर लें।
  6. सावधानी बरतें।
  7. साफ-सफाई का ध्यान रखें।
  8. जिससे ऑक्सीजन जानें के रास्ते साफ रहें।

यह भी पढ़ेCorona Update: भारत में COVID-19 के 2,40,842 नए मामले, जानें अपने राज्य में संक्रमण का आंकड़ा

Related Articles