हरियाणा में Black Fungus का कहर, 398 मामले, सरकार से 12,000 इंजेक्शन की मांग

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि, ब्लैक फंगस के मामले बढ़ रहे हैं, उन्होंने बताया कि हमने भारत सरकार से 12,000 इंजेक्शन की मांग की है

चंडीगढ़: हरियाणा (Haryana) के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि, ब्लैक फंगस (Black Fungus) के मामले बढ़ रहे हैं, अभी 398 मामले हैं। अभी तक हमें 1,250 एंफोटेरिसिन इंजेक्शन (Amphotericin Injection) उपलब्ध हो चुकी है। इंजेक्शन की सख्त जरूरत है। हमने भारत सरकार से 12,000 इंजेक्शन की मांग की है। विदेशों से आयात करने की प्रक्रिया भी शुरू की है।

विदेशों से दवा इंपोर्ट

ब्लैक फंगस (Black Fungus) के लिए विदेशों से दवा इंपोर्ट करेगी हरियाणा सरकार। केंद्र सरकार को भी लिखी एप्लीकेशन केंद्र सरकार जो इम्पोर्ट कर रही है उसमें भी हरियाणा को मिले दवाई। हरियाणा सरकार ग्लोबल टैंडर के तहत 1 करोड़ कोरोना की वैक्सीन इंपोर्ट करेगी ताकि प्रदेश में वैक्सीन की कमी ना रहे। केंद्र सरकार से भी हमे रेग्यूलर वैकसीन मिल रही है जो लोगों को नियमित लगायी जा रही है।

जानें क्या होता है ब्लैक फंगस?

‘ब्लैक फंगस’ को म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) भी कहते है। इस बीमारी का समय पर इलाज नहीं हुआ तो मरीज की जान भी जा सकती या फिर मरीज की आंख निकालनी पड़ सकती है। ये बीमारी अधिकतर उन लोगों में ज्यादा होती है जो (Wet Condition) नमी वाले जगह में रहते है। जिनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होता है। जो शुगर के मरीज है। या ऐसी दवा लेते हो जो इम्यूनिटी (Immunity) को कमजोर करती हैं। ऐसे लोगों में ‘ब्लैक फंगस’ का खतरा और ज्यादा होता है।

‘ब्लैक फंगस’ (Black Fungus) के लक्षण-

  1. आंखों का लाल होना
  2. होठों पर सूजन
  3. थकान और सिर दर्द
  4. धड़कन तेज,
  5. सीने में दर्द होना
  6. हाथों और पैरों में सूजन
  7. शरीर पर गांठ बनना
  8. लगातार बुखार
  9. उल्टी और पेट दर्द
  10. त्वचा पर चकते
  11. बुखार और खांसी-जुकाम
  12. थकान और दस्त
  13. गले में खराश
  14. मांसपेशियों में दर्द
  15. सांस लेने में दिक्कत

Fungus से बचने के उपाय-

  1. दिल्ली AIIMS में न्यूरोलॉजी विभाग की डॉक्टर एमवी पद्म श्रीवास्तव के मुताबिक स्टेरॉयड नहीं लेना चाहिए।
  2. ओवर द काउंटर दवाएं नहीं लेना चाहिए।
  3. खुद से ही दवाई लेने से बचना चाहिए।
  4. मधुमेह यानी की शुगर के मरीज अपना शुगर कंट्रोल करें।
  5. एंटी बायोटिक दवाएं सोच-समझकर लें।
  6. सावधानी बरतें।
  7. साफ-सफाई का ध्यान रखें।
  8. जिससे ऑक्सीजन जानें के रास्ते साफ रहें।

यह भी पढ़ेAcharya Swami Vivekananda: आज दूसरों की नकल करने से बचें, पढ़ें क्या कहता है आपका राशिफल

Related Articles

Back to top button