नागरिकों के शव लौटाए गए, कश्मीर में तनाव और आक्रोश का माहौल

नई दिल्ली : भारत नियंत्रित कश्मीर में सैनिक आप्रेशन में मारे गए नागरिकों के शव परिजनों को सौंप दिए गए। बीते सोमवार को तीन कश्मीरियों को कथित रूप से फ़र्ज़ी झड़प में मारने और उनकी लाशें सीमावर्ती क़स्बे हंदवारा में दफ़्न करने के ख़िलाफ़ शुक्रवार को श्रीनगर और पूरी घाटी में हड़ताल की गई।

इस हड़ताल की काल कई संगठनों की ओर से दी गई थी। हड़ताल से आम जनजीवन थम गया। इससे पहले जब कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा ख़त्म किया गया था तब इस तरह की हड़ताल हुई थी और सरकार ने हर प्रकार के प्रदर्शनों पर रोक लगा दी थी।

घटना में एक पाकस्तानी सहित चार छापामार की मौत

सोमवार को एक कथित झड़प के बाद पुलिस ने दावा किया कि एक पाकिस्तानी सहित चार छापामार मारे गए हैं तो मारे गए कश्मीरियों के परिजनों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया जिसके समर्थन में सामाजिक और राजनैतिक गलियारों ने भी जांच और शवों की वापसी की मांग कर दी।

पुलिस ने दावा किया था कि बिलाल उर्फ़ हैदर नामक पाकिस्तानी छापामार श्रीनगर के उपनगरीय इलाक़े हैदरपुरा में स्थित शापिंग माल की चौथी मंज़िल पर साथियों के साथ छिपा था और इसकी ख़ुफ़िया जानकारी मिलने के बाद माल को घेर लिया गया।

आरंभिक बयान में पुलिस ने कहा कि हैदर अपने तीन साथियों के साथ झड़प में मारा गया। बाद में इस बयान का खंडन कर दिया गया और बताया गया कि अलताफ़ अहमद नाम का कश्मीरी माल का मालिक था जो फ़ायरिंग के दौरान मारा गया।

शापिंग काम्प्लेक्स में डेंटल सर्जन डाक्टर मुदस्सिर का कार्यालय था वह भी इस झड़प में मारे गए जबकि उनका नौकर आमिर अहमद मागरे भी हताहत हो गया। पुलिस उन्हें आतंकवाद के अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क का हिस्सा बता रही थी।

पूर्व मुख्यमंत्रियों ने घटना पर जताई अप्पति

इस घटना के बाद विरोध फूट पड़ा और जगह जगह धरने शुरू हो गए। पूर्व मुख्य मंत्रियों उमर अब्दुल्लाह, फ़ारूक़ अब्दुल्लाह और महबूबा मुफ़्ती ने भी इस घटना पर भारी आपत्ति जताई।

एलजी मनोज सिन्हा ने इस घटना की मजिस्ट्रेट स्तर पर की जांच के आदेश दिए हैं।

पुलिस ने दो शवों को परिजनों के हवाले किया। इस घटना से घाटी में गहरा आक्रोश है। उमर अब्दुल्लाह ने कहा कि इस तरह की घटनाओं से कश्मीर के लोग दिल्ली से दूर होते जाएंगे।

 

यह भी पढ़ें:Acharya Swami Vivekananda : शादी के लिए दिन अच्छा है इसलिए कृपया अपने जीवन साथी से पूछें।

Related Articles