बंगाल में बम- यहाँ चुनाव में सिर्फ वोट नहीं, बम भी पड़ते है

पश्चिम बंगाल: लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण का मतदान सुबह 7 बजे से शुरू तो हो गया और मतदाताओं की भारी भीड़ भी देखने को मिली लेकिन कुछ उपद्रवियों से इतनी भारी मात्रा में पड़ती वोटिंग बर्दाश्त ना हो सकी. इस प्रक्रिया में भंग डालने की कोशिश करने हेतु बंगाल के अलग अलग हिस्सों में बमबारी हुई.

मंगलवार को मुर्शिदाबाद के रानीनगर इलाके में उपद्रवियों ने पोलिंग बूथ के पास देसी बम मारे और वोटरों को डराने की कोशिश की. बमबारी के चलते 7 बजे से लगी भीड़ 10 बजे तक घटकर महज़ चंद लोगो में तब्दील हो गई.

पहली हिंसात्मक घटना मुर्शिदाबाद के डोमकाल इलाके में हिंसा हुई. दो गुट आपस में भीड़ गये, जिसमे TMC के तीन कार्यकर्ता बुरी तरह घायल हो गये.

ऐसी ही खबर रानीनगर बूथ नंबर 47-48 के पास देसी बम मारे गये. इस बमबारी का एकलौता मकसद वोटर्स को डरा कर पोलिंग बूथ से दूर करना था. उपद्रवी बम फोड़ते ही भाग निकले. इन उपद्रवियों का अभी किसी भी राजनीतिक पार्टी से किसी भी तरह का कोई जोड़ सामने नही आया है.

लेकिन बीजेपी ममता सरकार और ममता सरकार बीजेपी पर बराबर आरोपों की बौछार किए हुए है.

ऐसे माहौल में पोलिंग बूथ की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. वोट सुरक्षित करने के लिए वोटर्स को सुरक्षित करना ज़रुरी है. मालदा में छांछल इलाके के बूथ नो.126 को भी निशाना बनाया गया है. पश्चिम से चुनाव के हर चरण ऐसी घटनाये सामने आती रही है.

Related Articles