Bombay HC : वॉट्सऐप ग्रुप के मेंबर की हरकत के लिए एडमिन ज़िम्मेदार नहीं

नागपुर : बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay HC) की नागपुर बेंच ने हाल ही में दिए अपने एक बयान में कहा है कि वॉट्सऐप ग्रुप में अगर कोई मेंबर गलत कंटेंट या टेक्स्ट पोस्ट करता है तो उसके लिए ग्रुप के एडमिन को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

Bombay HC के इस फैसले से सुलझा कई साल पुराना केस

इस मसले पर बोलते हुए कोर्ट ने यह भी कहा कि एडमिन को ज़िम्मेदार सिर्फ तभी माना जायेगा जब कंटेंट पोस्ट करने वाले ग्रुप मेंबर और ग्रुप एडमिन के बीच कंटेंट को लेकर “कॉमन इंटेंशन” होगा। इस मामले में सुनवाई करते हुए जस्टिस जे़डए हक और जस्टिस अमित बी बोरकार की बेंच ने जुलाई 2016 में तैंतीस साल के एक वॉट्सऐप एडमिनिस्ट्रेटर के खिलाफ दायर केस को खारिज कर दिया है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, दरअसल पूरा मामला यह है की 2016 में एक वॉट्सऐप ग्रुप एडमिन के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी। उस पर इल्ज़ाम था की उस के ग्रुप के एक मेंबर ने ग्रुप ही की एक महिला मेंबर के खिलाफ गलत और अपमानजनक मेसेज पोस्ट किये थे।

इस मामले की सुनवाई करते हुए दोनों जज ने पाया की एक बार जब कोई वॉट्सऐप ग्रुप बन जाता है तो उसपर सभी मेंबर्स का समान अधिकार होता हैं। हाँ , एडमिन के पास कुछ विशेषाधिकार ज़रूर होते है, जिसमे किसी नए मेंबर को जोड़ना भी शामिल है। इसके बावजूद एडमिन के पास ग्रुप के किसी मेंबर की तरफ से किये गए पोस्ट और कंटेंट को रेगुलेट, मॉडरेट या सेंसर करने का अधिकार नहीं होता है। इस कड़ी में ग्रुप एडमिन को जानकारी नहीं होती कि कौन सा मेंबर क्या मेसेज,कंटेंट  पोस्ट करेगा। इसलिए एडमिन को ग्रुप में किये गए पोस्ट के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया  जा सकता है।

यह भी पढ़ें : अमेरिका निभाएगा दोस्ती, कोरोना संकट के बीच जो बाइडेन ने PM Modi से फोन पर की बात

Related Articles