सरकार की मंजूरी मिलने के बाद बढ़ेगी बीपीसीएल रिफाइनरी की क्षमता

0

नई दिल्लीः बुधवार के दिन कैबिनेट बैठक में बीपीसीएल की नुमालीगढ़ रिफाइनरी की विस्तार योजना को मंजूरी मिलने के बाद रिफायनरी की क्षमता 6 से 8 मिलियन टन तक बढ़ाए जाने का अनुमान है। चार साल में प्रोजेक्ट के पूरा होने की उम्मीद जताई जा रही है। नुमालीगढ़ रिफाइनरी में बीपीसीएल की कुल हिस्सेदारी 61.65 प्रतिशत है।  और तकरीबन 22 हजार करोड़ रुपए विस्तार योजना पर निवेश किए जाएंगे।

 

कैबिनेट में हुए अहम फैसलों की जानकारी देते हुए रेलवे और कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि नुमालीगढ़ रिफाइनरी की क्षमता बढ़ाने को मंजूरी दी जा चुकी है। श्री गोयल ने कहा कि विस्तार परियोजना के अंतर्गत कच्चे तेल की पाइपलाइन पारादीप से नुमालीगढ़ तक स्थापित करने के साथ ही 22,594 करोड़ रुपये की लागत से नुमालीगढ़ से सिलीगुड़ी तक उत्पाद पाइपलाइन भी शामिल है।

इसके अतिरिक्त एक्ज़िम बैंक को 6,000 करोड़ रुपये की रीकैपिटलाइजेशन देने का फैसला किया गया है। अधिकृत पूंजी को 20,000 करोड़ रुपये तकबढ़ाने का फैसला भी इसमें शामिल है। नई दिल्ली में कैबिनेट की बैठक के बाद पीयूष गोयल ने पत्रकारों से बार्ता में कहा कि इक्विटी के दो चरणों के तहत 2018-19 में 4,500 करोड़ रुपये और 2019-20 में 1,500 करोड़ रुपये डाले जाएंगे और कैबिनेट ने एक्सपोर्ट-इंपोर्ट बैंक ऑफ इंडिया (एक्जिम बैंक) को 6,000 करोड़ रुपये के रीकैपिटलाइजेशन की मंजूरी दी है।साथ ही इसकी अधिकृत पूंजी को 10,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 20,000 करोड़ रुपये कर दिया है।

loading...
शेयर करें