2022 विधानसभा चुनाव में सभी पार्टी खेल रही ब्राह्मण कार्ड, बसपा ने नहले पर मारा दहला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में आगामी 2022 विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक घटनाक्रम तेज हो गए है। इसी कड़ी में बसपा पूरे राज्य में ‘प्रबुद्ध सम्मेलन’ का आयोजन कर रही है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ में ऐसे ही एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अगर यूपी में बसपा की सरकार बनती है तो ब्राह्मणों को सुरक्षा मुहैया कराएगी। मायावती ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार में ब्राह्मणों पर अत्याचार बढ़े हैं और उनके खिलाफ की गई कार्रवाई की जांच कराई जाएगी।

मायावती ने कहा कि जब राज्य में बसपा सत्ता में थी तो ब्राह्मणों की एक-एक बात सुनी जाती रही है। उन्होंने कहा कि महिला टीम तैयार करने की जिम्मेदारी सतीश मिश्रा की पत्नी कल्पना मिश्रा को दी गई है।

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बसपा ही ‘सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय’ की सोच पर चलने वाली पार्टी है. उन्होंने कहा, “बसपा जो कहती है उसे ईमानदारी और निष्ठा से लागू भी करती है, हमने यूपी में चार बार सरकार चलाकर भी दिखाया है और सभी जातियों और धर्मों के लोगों की प्रगति पर पूरा ध्यान दिया है।”

पिछली बसपा सरकार में सभी जातियों के साथ

मायावती ने कहा कि पिछली बसपा सरकार में सभी जातियों के साथ समान व्यवहार किया जाता था और पार्टी ने कानून का राज स्थापित किया था। “पहले भी ब्राह्मण समाज को अन्य जातियों के समान संरक्षण और सम्मान दिया जाता था, लेकिन 2012 में, सपा सरकार के शब्दों और कार्यों में अंतर के कारण, जाति आधारित भेदभाव हुआ। इसके बाद, भाजपा सत्ता में आई। भारी मतों के साथ, लेकिन यह मानकों पर खरा नहीं उतरा और जनता उनकी जातिवादी और दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई से नाराज है।

आरएसएस प्रमुख के बयान पर तंज

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर तंज कसते हुए मायावती ने पूछा कि फिर भाजपा सरकार हिंदुओं और मुसलमानों में भेदभाव क्यों करती है, मुसलमानों के साथ सौतेला व्यवहार क्यों करती है। भागवत ने कहा था कि हिंदुओं और मुसलमानों के पूर्वज एक ही हैं।

मूर्तियां और स्मारक बनाने पर दी सफाई

मायावती ने अपनी सरकार में मूर्तियां और स्मारक बनाने के आरोपों पर सफाई देते हुए कहा, ‘जितना गुरुओं और हमारे संस्थापकों का सम्मान करना था, मैंने किया है, अब मुझे कोई नई मूर्ति, पार्क, स्मारक आदि नहीं मिलने वाले हैं। ” उन्होंने कहा कि अब अगर बसपा सत्ता में आती है तो उनकी सुरक्षा के लिए पूरा काम किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि इस बार उनका ध्यान मूर्तियाँ और स्मारक बनाने पर नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के विकास पर है।

Related Articles