दुल्हन के बिना लौटी बरात, दहेज नहीं सिर्फ इतनी सी थी बात,आप भी देखकर हैरान हो जायेंगे 

0

उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर जिले से शादी को लेके एक अनोखा मामला सामने आया है, जहांगीराबाद कोतवाली क्षेत्र के गांव में बरात में बैंड बाजा और फोटोग्राफर को नहीं लाना दूल्हे पक्ष के लोगों को भारी पड़ गया।इन साजो सामान को नहीं लाने पर बारात को बिना दुल्हन के बैरंग लौटना पड़ा। इस मुद्दे को लेकर वर व वधू पक्ष के बीच घंटों चली पंचायत के बाद भी कोई हल नहीं निकला।बाद में दुल्हन पक्ष के लोगों ने अमरगढ़ क्षेत्र के एक युवक से युवती की शादी कर दी। उक्त प्रकरण पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। जानकारी के अनुसार क्षेत्र के गांव में दादरी क्षेत्र के एक गांव से रविवार रात बारात आई थी। ग्रामीणों के अनुसार, बरात देर रात जब गांव पहुंची तो ग्रामीणों ने देखा की बारात के साथ बैंड बाजा नहीं है और न ही कोई फोटोग्राफर।

यह खबर पूरे गांव में चर्चा का विषय बन गई और गांव में बरात को लेकर तरह-तरह की चर्चा होने लगी। इन बातों को लेकर दुल्हन पक्ष के लोगों की दूल्हा पक्ष के लोगों से नोकझोंक भी हुई और मामले ने तूल पकड़ लिया। मामले को बढ़ता देख किसी व्यक्ति ने 100 नंबर पर पुलिस को घटना की सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने भी दोनों पक्षों के बीच सहमति बनाने की पुरजोर कोशिश की, लेकिन बात नहीं बनी। गुस्साए दुल्हन पक्ष के लोगों ने दूल्हे समेत पूरी बरात को बैरंग लौटा दिया। बाद में दुल्हन पक्ष के लोगों ने अपने बुजुर्गों की सलाह पर आनन-फानन में अमरगढ़ क्षेत्र के एक गांव के एक युवक का चयन कर अपनी बेटी की शादी कर दी। गांव में दूसरे दूल्हे के रूप में पहुंचे युवक का परिजनों समेत तमाम ग्रामीणों ने जोरदार स्वागत किया तो दूल्हे पक्ष के लोगों ने भी गांव में भव्यता के साथ बरात को निकाला। सुबह होने पर मंगल गीतों के साथ दुल्हन को नए दूल्हे के साथ विदा कर दिया गया।रविवार देर रात एक बरात आई थी, लेकिन बारात में बैंड बाजा व फोटोग्राफर न लाने पर लड़की पक्ष व लड़के पक्ष के बीच विवाद हो गया था। दोनों पक्षों का कोतवाली में समझौता हुआ और दादरी की ओर से आई बरात बिना दुल्हन के बैरंग लौट गई।

loading...
शेयर करें