IPL
IPL

AstraZeneca के कोविड टीके के परीक्षण पर Britain ने लगाई रोक, जानिए वजह..

इससे पहले यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी ( European Medicines Agency ) ने कहा कि वह यूरोपीय देशों में एस्ट्राजेनेका ( AstraZeneca ) का टीके की पहली खुराक लेने वाले मरीजों के सामने आयी दिक्कतों की जांच कर रहा है।

लंदन: ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ( Oxford University ) ने कहा कि उसने एस्ट्राजेनेका ( AstraZeneca ) की कोरोना वायरस ( Covid -19 ) वैक्सीन पर रोक लगाते हुए 6 से 17 आयु वर्ग के बच्चों और किशोरों के लिए विकसित वैक्सीन का परीक्षण अभी रोक दिया है। यह खबर एक मीडिया रिपोर्ट ने दी है।

ऑक्सफोर्ड के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा कि परीक्षण में सुरक्षा मुद्दों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। लेकिन कोरोना वायरस वैक्सीन ( Coronavirus Vaccine ) के संभावित लिंक की जांच करने के लिए ब्रिटेन ( Britain ) और यूरोप ( Europe ) में वयस्कों में थक्के जमने की परेशानियों को लेकर चिंताएं हैं। इससे पहले यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी ( European Medicines Agency ) ने कहा कि वह यूरोपीय देशों में एस्ट्राजेनेका ( AstraZeneca ) का टीके की पहली खुराक लेने वाले मरीजों के सामने आयी दिक्कतों की जांच कर रहा है।

A rare clotting disorder may cloud the world's hopes for AstraZeneca's COVID-19 vaccine | Science | AAAS

ऑस्ट्रिया, एस्टोनिया, लिथुआनिया, लातविया, लक्समबर्ग, डेनमार्क, बुल्गारिया, नॉर्वे, आइसलैंड, स्लोवेनिया, साइप्रस, इटली, फ्रांस, जर्मनी और स्पेन सहित कई यूरोपीय देशों ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन ( AstraZeneca Vaccine ) के उपयोग को निलंबित कर दिया। ईएमए ( EMA ) ने बाद में दवा का उपयोग जारी रखने की सिफारिश की। जिसके बाद कई देशों ने इस वैक्सीन को लेकर फिर से टीकाकरण ( Vaccination ) शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़े: Neena Gupta और Amitabh Bachchan की इस फिल्म में जमेगी जोड़ी, पहली बार पर्दे पर दिखेंगे साथ

Related Articles

Back to top button