BSF ने जबरदस्त जोश और उत्साह के साथ मनाया 56 वां स्थापना दिवस

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे बड़े सीमा प्रहरी बल सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने जबरदस्त जोश और उत्साह के साथ अपना 56 वां स्थापना दिवस मनाया है। इस दौरान विभिन्न मार्चिंग दस्तों ने भव्य पारंपरिक परेड में अनुशासन, सजगता और मातृ भूमि की रक्षा के प्रति अपनी वचनबद्धता का परिचय दिया।

नित्यानंद राय ने ली परेड की सलामी

BSF के छावला कैंप में आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने परेड की सलामी ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को इस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होना था लेकिन किसानों के आंदोलन से संबंधित बैठक में हिस्सा लेने के लिए अंतिम समय में उन्हें इस कार्यक्रम को टालना पड़ा। स्थापना दिवस समारोह कोविड प्रोटोकाल को ध्यान में रखते हुए मनाया गया और इस दौरान सभी एहतियाती उपाय किए गए।

1963 में हुई थी स्थापना

बता दें कि पाकिस्तान और बंगलादेश से लगने वाली 6386 किलोमीटर लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा की निगरानी करने वाले बल BSF का गठन एक दिसम्बर 1963 को किया गया था। उसके बाद से यह बल जीवन पर्यन्त कर्त्यव के अपने ध्येय वाक्य के साथ देश की सीमाओं की रक्षा कर रहा है।

बल के महानिदेशक ने किया उल्लेख

बल के महानिदेशक राकेश अस्थाना ने बल की स्थापना के बारे में उल्लेख करते हुए कहा कि कभी 25 बटालियन के साथ शुरू हुआ यह सीमा प्रहरी बल अब 192 बटालियन के साथ दुनिया का सबसे बड़ा प्रहरी बल बन गया है। उन्होंने कहा कि विभिन्न दायित्वों का निर्वाह करते हुए बल ने अपनी एक पहचान बनायी है। बल की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए उन्होंने देश को आश्वस्त किया कि बल की सीमाओं की रक्षा में किसी तरह की कसर नहीं छोड़ी जाएगी और बल के जवान, अधिकारी भविष्य की चुनौतियों का डटकर सामने करना करने के लिए तैयार है।

मंत्री नित्यानंद राय ने इस मौके पर शहीद स्मारक जाकर शहीद सीमा प्रहरियों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद उन्होंने जवानों और अधिकारियों को वीरता के लिए पुलिस पदकों तथा विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदकों से सम्मानित किया। प्रशिक्षण और खेलों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए गुजरात फ्रंटियर को अश्वनी कुमार ट्राफी प्रदान की गई। उन्होंने बल की पत्रिका ‘ई बॉडरमैन’का भी विमोचन किया।

नित्यानंद राय ने कहा कि हमारी पश्चिमी सीमा पर पड़ोसी देश संघर्ष विराम उल्लंघन, घुसपैठ, हथियारों तथा मादक पदार्थों की तस्करी की गतिविधियों में लिप्त है। लेकिन हमारे बल के जवान उसकी कोशिशों को नाकाम करते रहे हैं।

BSF कर्मियों और उनके परिवारों के कल्याण की योजनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री हमेशा उनके साथ खड़े हैं और उनकी हर तरह की जरूरत को पूरा करने के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने इस मौके पर 3800 किलोमीटर लंबे कश्मीर से कन्याकुमारी तक के साइकिल अभियान को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

यह भी पढ़ें: किसानों के समर्थन में एकजुट हुआ पूरा देश, सरकार की तरफ से राजनाथ सिंह करेंगे अगुवाई

Related Articles

Back to top button