असदुद्दीन ओवैसी से खफा बीएसपी, सतीश चंद्र मिश्रा ने गठबंधन को लेकर दिया बड़ा बयान

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव से पहले सभी पार्टियां कमर कसना शुरू कर दी है। वहीं इसी बीच शांत बैठी बहुजन समाज पार्टी (BSP) भी एक्टिव मोड़ में आ गई और रैलियां जनसभाएं करना शुरू कर दी है। प्रयागराज में मीडिया से रूबरू होते हुए सतीश चंद्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) ने विधानसभा चुनाव को लेकर बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि विधानसभा चुनाव में बीएसपी (BSP) किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी।

पार्टी के महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा का कहना है कि बीएसपी अकेले ही चुनाव लड़ेगी और चुनाव में बीएसपी छोटी या बड़ी किसी भी पार्टी से कोई समझौता नहीं करेगी। उनका ये भी कहना है कि पार्टी जब भी किसी दूसरे दल से गठबंधन करती है तो सिर्फ नुकसान ही होता है।

ओवैसी की पार्टी से कोई समझौता नहीं

सतीश चंद्र मिश्रा ने इशारों इशारों में बिना पार्टी का नाम लेते हुए कहा सभी को पता है असदुद्दीन ओवैसी किसके कहने पर यूपी के चुनाव में लड़ने आ रहे है।एआईएमआईएम से बीएसपी का कतई कोई समझौता नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि ओवैसी यूपी में क्या करना चाहते हैं, ये जानकारी सभी को है। चुनाव में बीएसपी ओवैसी या किसी की भी पार्टी से कोई समझौता नहीं करेगी।

ब्राह्मण विरोधी बीजेपी

इससे पहले कौशांबी जिले में बसपा के तत्वाधान में प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान, सुरक्षा और तरक्की को लेकर विचार संगोष्ठी का आयोजन किया गया था। सतीश चंद्र मिश्रा ने बीजेपी को ब्राह्मण विरोधी पार्टी बताया और साथ ही ब्राम्हण समाज के लोगों को ये भी बताया कि उनका हित सिर्फ बहुजन समाज पार्टी में ही है। बीजेपी भगवान श्री राम के नाम पर राजनीति करती है। क्योंकि, बीजेपी के पास चुनाव जीतने के के लिए कोई मुद्दा नहीं बचा है। भगवान श्रीराम ने रामराज्य की स्थापना की थी और उनके नाम पर बीजेपी देश की भोली-भाली जनता को गुमराह कर राजनीति कर रही है।

Related Articles