उमीदों का बजट 2021 खुलेगा आज, महामारी की मार झेल के बाद बढ़ी आस

नई दिल्ली: आज 1 फरवरी है और यह दिन देश के हर नागरिक के लिए बेहद खास है और सबकी नजर सरकार के बजट पर टिकी हुई है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण वित्त वर्ष 2021-22 का आम बजट (Budget) आज पेश करने जा रही है। पहली बार इस वर्ष का यह बजट (Budget) पेपरलेस होगा। लोगो का मानना है कि कोरोना महामारी की मार झेल रहे लोगों को इस बजट में राहत मिल सकती है।

नौकरी करने वाले लोगों के लिए टैक्स में भी कटौती हो सकती है, कारोबारियों के लिए राहत का एलान हो सकता है। इस बजट के बाद कुछ चीजें महंगी भी हो सकती हैं और कुछ सामानों पर कर घटाया जा सकता है। सरकार कई वस्तुओं पर सीमा शुल्क में कटौती कर सकती है। निर्मला सीतारमण का यह तीसरा केंद्रीय बजट होगा। निर्मला सीतारमण आज 1 फरवरी को सुबह 11 बजे से संसद में बजट 2021 पेश करेंगी और भाषण देंगी।

ये भी पढ़ें : प्रियंका गांधी के नेतृत्व में 2022 में कांग्रेस सत्ता में आएगी: अजय कुमार लल्लू

इस साल का बजट सत्र की शुरुआत शुक्रवार से हो गया है, इसका पहला हिस्सा 15 फरवरी को खत्म होगा और दूसरा हिस्सा 8 मार्च से शुरू होकर 8 अप्रैल तक चलेगा। यह एक अंतरिम बजट समेत मोदी सरकार का नौवां बजट होने वाला है। ये बजट तब पेश हो रहा है जब देश कोरोना महामारी से बाहर निकल रहा है। इसमें व्यापक रूप से रोजगार सृजन और ग्रामीण विकास पर खर्च को बढ़ाने, विकास योजनाओं के लिये उदार आवंटन, औसत करदाताओं के हाथों में अधिक पैसा डालने और विदेशी कर को आकर्षित करने के लिए नियमों को आसान किए जाने की उम्मीद की जा रही है।

ये भी पढ़ें : माय बार बना फाइट क्लब, नशे में धुत लड़कियों ने युवक को पीटा

बजट 2021 से बड़ी राहत

वित्त मंत्रालय के मुताबिक, कोरोना महामारी के कारण घटते राजस्व संग्रह के साथ जूझ रहे देश को इस बजट 2021 से बड़ी राहत मिली है। ‘जनवरी 2021 में 31 तारीख की शाम छह बजे तक जीएसटी राजस्व संग्रह 1,19,847 करोड़ रुपये रहा। इसमें केंद्रीय GST (CGST) 21,923 करोड़ रुपये, राज्यों का जीएसटी (एसजीएसटी) 29,014 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) 60,288 करोड़ रुपये (सामानों के आयात से प्राप्त 27,424 करोड़ रुपये) और उपकर 8,622 करोड़ रुपये (माल के आयात पर एकत्र 883 करोड़ रुपये सहित) शामिल है।’

 

Related Articles

Back to top button