बाहुबली मुख्तार अंसारी के एक और करीबी के आशियाने पर चला बुलडोजर

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी प्रॉपर्टी डीलर गणेश दत्त मिश्र की छह मंजिला निर्माणाधीन इमारत को ध्वस्त किया जा रहा है।

गाजीपुर: प्रदेश की योगी सरकार लगातार बाहुबलियों पर शिकंजा कस रही है। बाहुबली के करीबी भी योगी सरकार के लपेटे में जा रहे हैं। इसी क्रम में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी प्रॉपर्टी डीलर गणेश दत्त मिश्र की छह मंजिला निर्माणाधीन इमारत को ध्वस्त किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस बहुमंजिला इमारत को गिराने के लिए एसडीएम अदालत के आदेश पर डीएम की अगुवाई वाली 8 सदस्य बोर्ड ने मुहर लगा दी है।

निर्णाधीन इमारत को गिराने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा अवैध इमारत का निरीक्षण किया और मार्किंग की गई। मुख्तार का करीबी गणेश दत्त मिश्र ने अपने पिता के नाम पर शहर से बिल्कुल सटे रजदेपुर देहात स्थित श्रीराम कॉलोनी में उस बिल्डिंग का निर्माण करवा रहे हैं। यह बिल्डिंग अभी निर्माणाधीन है, आरोप है कि निर्माण में मास्टर प्लान के नियमों की अनदेखी की गई है।

अवैध निर्माण को ध्वस्त करने का सदर एसडीएम ने नोटिस जारी किया है। इस पर मालिकान ने जिलाधिकारी के यहां अपील दाखिल की थी। सदर एसडीएम ने सख्त निर्देश दिया था कि एक सप्ताह के अंदर अगर वह स्वयं अवैध निर्माण नहीं गिराएंगे तो प्रशासन इसे ध्वस्त कर देगा। इसमें जो भी खर्च आएगा, उसे उनसे वसूल किया जाएगा। जिला प्रशासन के अनुसार यह बिल्डिग बिना मास्टर प्लान द्वारा नक्शा स्वीकृति के ही बनाया गया है। इस पर एसडीएम ने यह नोटिस जारी किया है। इसी आदेश के बाद मालिकान ने जिलाधिकारी के यहां अपील दाखिल की थी। जिसपर डीएम की अगुवाई वाली बोर्ड की बैठक में राहत न मिलने के बाद ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया शुरू हुई।

हाईकोर्ट से भी नहीं मिली राहत

हालांकि प्रशासन की इस कार्यवाही को मुख्तार अंसारी और उनके लोगों के विरुद्ध चल रहे अभियान से जोड़कर देखा जा रहा है। इस मामले को लेकर गणेश दत्त मिश्रा उच्च न्यायालय भी गए थे। लेकिन वहां उन्हें राहत नहीं मिली थी। उसके बाद एसडीएम अदालत ने उनकी निर्माणाधीन बिल्डिंग को गिराने का आदेश दिया। रविवार तड़के सुबह प्रशासनिक अमला पोकलेन के साथ उस बिल्डिंग के पास पहुंच गया और बिल्डिंग को ध्वस्त करने का काम शुरू हो गया।

बाहुबली मुख्तार का करीबी है गणेश

गाजीपुर निवासी गणेश दत्त मिश्रा की पहचान काफी अरसे से मुख्तार के करीबियों में होती रही है। जो पहले छोटे-मोटे अपराधिक गतिविधियों में लगे रहे। लेकिन 10 वर्षों से पूर्वांचल के विभिन्न जिलो में जमीन से जुड़े कारोबार देखने का काम करते हैं। जिनकी पहचान एक मजबूत प्रॉपर्टी डीलर के रूप में हो चुकी है। जिसमें मुख्तार अंसारी का काफी सहयोग माना जाता है।

यह भी पढ़ें: ट्रैफिक पुलिस ने कई मार्गो को किया बंद, बाहर जाने से पहले पढ़े रूट डायवर्जन

Related Articles