Nursing और Paramedical Staff की बम्पर वैकेंसी, तुरंत होगी पोस्टिंग

कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति को देखते हुए पंजाब सरकार ने बड़ी संख्या में नर्सिंग ( Nursing ) और पैरामेडिकल स्टाफ की वैकेंसी निकाली है।

नई दिल्ली: कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति को देखते हुए पंजाब सरकार ने बड़ी संख्या में नर्सिंग ( Nursing ) और पैरामेडिकल स्टाफ की वैकेंसी निकाली है। राज्य के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ( Chief Minister Amarinder Singh ) ने सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 400 नर्सों एवं 140 तकनीशियनों की तत्काल भर्ती किए जाने का आदेश दिया है।

एक अधिकारिक बयान में बताया गया कि सिंह ने चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग को राज्य में स्वीकृत की जा चुकीं और स्वीकृत किए जाने की प्रक्रिया से गुजर रहीं कॉलेज परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया, ताकि पंजाब स्वास्थ्य संबंधी बुनियादे ढांचे के विकास की दिशा में पीछे न रह जाए। ( Nursing and Paramedical Staff Vacancy 2021)

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह केंद्र को पत्र लिखकर अनुरोध करेंगे कि पंजाब के सैन्य अस्पतालों एवं चंडीगढ़ के स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान ( PGIMER ) के उपग्रह केंद्रों को अतिरिक्त कोविड-19 बिस्तर मुहैया कराने का निर्देश दिया जाए।

केंद्र सरकार की मंजूरी

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ओ पी सोनी ने मोहाली, होशियारपुर और कपूरथला में स्थापित होने वाले विभिन्न अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेजों की जानकारी साझा की। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की मंजूरी से मलेरकोटला और गुरदासपुर में भी मेडिकल कॉलेज स्थापित करने के प्रयास किए जा रहे हैं तथा पीजीआईएमईआर के उपग्रह केंद्र इस साल संगरूर में भी शुरू किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि फिरोजपुर में पीजीआईएमईआर के उपग्रह केंद्र का निर्माण शुरू हो गया है। सोनी ने बताया कि मोहाली में राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान स्थापित करने के लिए नयी दिल्ली स्थित भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद से हाल में अनुमति मिली है।

राज्य में विभाग के तहत इस समय दो विश्वविद्यालय हैं- बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज, होशियारपुर और गुरु रविदास आयुर्वेद विश्वविद्यालय, होशियारपुर. इनके अलावा विभाग के तहत तीन सरकारी मेडिकल कॉलेज, दो डेंटल (दंत चिकित्सा) कॉलेज, एक आयुर्वेद कॉलेज और 12 नर्सिंग स्कूल/कॉलेज हैं. सोनी ने बताया कि सरकारी मेडिकल कॉलेजों में कोरोना वायरस के 14,000 से अधिक मरीजों का उपचार किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें: IPL 2021: 9 साल बाद चेन्नई में Punjab ने मारी बाजी, लगातार दूसरी बार Mumbai को रौंदा

Related Articles

Back to top button