बुराड़ी कांड में हुआ अब तक का सबसे बड़ा दावा, पुलिस भी रह गई दंग

नई दिल्ली। बुराड़ी कांड मामले में गुत्थी सुलझने के बजाय और भी ज्यादा उलझती जा रही है। 11 लोगों की मौत का रहस्य सुलझाने में जुटी पुलिस सभी एंगल पर हाथ मार चुकी है। हर तरफ उनके हाथ कुछ भी नहीं लगा। लगाये जा रहे सभी कयासों को पुलिस जांच में गलत करार दे चुकी है। अब मामले में एक और नया ट्विस्ट आया है। ताजा मामले में एक ख़त पुलिस कमिश्नर को भेजा गया। साथ ही इसकी एक कॉपी एक निजी मीडिया संस्थान को भी प्रेषित की गई। इस ख़त में एक अन्य तांत्रिक के बारे में जिक्र किया गया है। खत भेजने वाले का कहना है कि वह भाटिया परिवार को भली-भांति जानता था और उसने उन्हें बताये गए तांत्रिक के पास कई बार आते-जाते भी देखा था।

निर्भया के दोषियों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने बरकरार रखा सजा-ए-मौत...

बुराड़ी कांड

बता दें क्राइम ब्रांच ने जिस तरह से ‘सामूहिक आत्महत्या’ के पीछे ललित के मानसिक रोग, उन्हें पिता की आत्मा दिखाई देने और वट पूजा वाली कहानियों को बल दिया है, उससे लगता है कि पुलिस 11 मौतों के मामले का पटाक्षेप करना चाहती है। हालांकि वह बातें आम लोगों के गले नहीं उतर रही हैं। उसकी वजह से तरह-तरह की कहानियां फैल रही हैं।

खबरों के मुताबिक़ खुद को आदर्श नागरिक बताते हुए खत लिखने वाले ने बुराड़ी कांड के पीछे कराला के एक तांत्रिक का सीधा हाथ बताया है।

पीएम मोदी का ये कार्यक्रम पहले से था स्क्रिप्टेड, महिला किसान…

अपना नाम गुप्त रखने का अनुरोध करते हुए उसने लिखा है, ‘भाटिया परिवार कराला स्थित एक तांत्रिक के पास जाता रहा है, जो एक मंदिर में बैठता है। उसकी पत्नी भी तंत्र-मंत्र करती है, वे किसी को मारने या परेशान करने के बदले पैसे लेते हैं। मैंने खुद भाटिया परिवार को उस तांत्रिक के पास आते-जाते देखा है।’ यह खत भेजने वाले ने खुद को कराला का निवासी बताया है।

खत लिखने का मकसद उस तांत्रिक का भंडाफोड़ करना और भाटिया परिवार की मौत का सच सामने लाना बताया है। खत कमिश्नर के नाम लिखा गया है, लेकिन इसकी कॉपी पोस्ट के जरिए सान्ध्य टाइम्स को भी भेजी गई है।

इस संवाददाता ने क्राइम ब्रांच के जॉइंट सीपी आलोक कुमार और डीसीपी जॉय टिर्की को इस बारे में अवगत करवाया। जॉइंट सीपी ने कहा कि पुलिस को ऐसा कोई पत्र नहीं मिला है, न ही जांच में किसी तांत्रिक का नाम सामने आया है।

कानून के जानकारों का कहना है कि हो सकता है कि यह लेटर उस तांत्रिक को फंसाने के लिए भेजा गया हो। चूंकि मामला गंभीर है, इसलिए ऐसी किसी भी जानकारी पर पुलिस को छानबीन करनी चाहिए।

Related Articles