कोरोना ग्राफ को रोकने का व्‍यपारियों ने निकाला अनोखा उपाए, PM Modi को दिया सुझाव

नई दिल्‍ली: देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण बरती जा रही सख्‍ती को लेकर व्‍यपारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) को अपना सुझाव भेजा हैं। व्‍यापारियों ने पीएम मोदी (PM Modi) को पत्र लिख कर कहा है कि देश में कोरोना से निपटने के लिए लॉक डाउन या रात्रि कर्फ्यू लगाने की जगह सरकार अन्‍य विकल्‍पों पर काम पर ध्यान दे तो सभी के लिए बेहतर रास्ता हो सकता है। अन्य विकल्प से कोरोना के मामलों में कमी भी आ सकती है।

देशभर के व्‍यपारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने पीएम मोदी को आज रविवार को पत्र भेज कर कहा है कि रात्रि कर्फ्यू या लॉकडाउन लगाने के बाद भी देश में कोरोना से मुक्ति नही मिल पाई है। इसलिए इस हालात में यह ज्‍यादा सही होगा की पूरे देश में विकल्प के तौर कुछ अन्‍य काम किए जाएं। इसके लिए हर जिलों में कड़ाई के साथ कोविड नियमों का पालन कराया जाए और विभिन्‍न निजी और सरकारी क्षेत्रों के समय में बदलाव कर दिया जाए।

ये भी पढ़ें : KKR ने मैदान में दिखाया जलवा, खतरनाक अंदाज से हैदराबाद को हराया

देखें क्या दिया सुझाव

विभिन्‍न कार्यक्षेत्रों में रोजाना होने वाले कामो के घंटों को बदल देना चाहिए। इसके लिए सरकारी व निजी कार्यालय और अन्य सभी प्रकार के कार्यालय को सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक काम कराना चाहिए। वहीं बाजार के समय मे बदलाव करते हुए बाजार और दुकानों का समय सुबह 11 से शाम 5 बजे तक करना चाहिए। बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को सुबह 9 से दोपहर 3 बजे तक काम करने की अनुमति देनी चाहिए। अन्य व्यवसायों और अन्य व्यावसायिक गतिविधियों के लिए कार्य का समय बदलना चाहिए।  इस तरह से बाकी बची हुई चीज़ों के समय मे बदलाव उनके समय के हिसाब से करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : कोविड की नयी लहर के मद्देनज़र सरकार ने लगाई remdesivir के एक्सपोर्ट पर रोक

व्‍यापारी करेंगे मदद

कैट ने कहा कि व्‍यापारी भी सरकार की मदद करने के लिए आगे है। उन्होंने सुझाव दिया कि हर शहर के बाजारों और सड़कों पर कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने के लिए स्थानीय व्यापार संघों के साथ एक संयुक्त रणनीति तैयार करें। जैसे मास्क पहनना, हाथों को बार-बार साफ करना और सामाजिक दूरी बनाए रखना। इसके अलावा टीकाकरण अभियान को बढ़ाने के लिए बाजारों के मुख्‍य स्थानों पर “विशेष टीकाकरण शिविर लगाए जा सकते हैं।

Related Articles

Back to top button