हिंदू विरोधी विज्ञापन पर भड़के खरीददार, मिंत्रा पर द्रौपदी का हुआ चीरहरण, शुरू हुआ Boycott

लखनऊ: 22 अगस्त को कब पूरा देश रक्षाबंधन का त्योहार मना रहा था तब ट्विटर पर एक कथित ‘हिंदू विरोधी’ विज्ञापन के वायरल होने के बाद एक बार फिर #BoycottMyntra को ट्रेंड होने लगा। लेकिन मिंत्रा ने ऐसा किया क्या है? कपड़े बेचने के लिए मशहूर ऐप मिंत्रा ने ऐसी गलती क्यों कि जिससे लोग नाराज हो गए।

@hindutvaoutloud नाम के एक इंस्टाग्राम पेज ने उन सभी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के बारे में एक पोस्ट किया, जिन्होंने ‘हिंदू-विरोधी’ उत्पाद और विज्ञापन डाले हैं। स्लाइड की शुरुआत एक विज्ञापन से होती है जिसमें भगवान कृष्ण को मिंत्रा पर लंबी साड़ी के लिए ऑनलाइन खरीदारी करते हुए दिखाई दें रहे है क्योंकि पृष्ठभूमि में ‘द्रौपदी चीरहरण’ होता है।

हालांकि, उन्होंने जो कुछ याद किया वह “www.scrolldroll.com” एक छोटे से फ़ॉन्ट में लिखा गया था। इस विज्ञापन ने 2016 में विवाद खड़ा कर दिया जब लोगों ने मान लिया कि यह Myntra का एक विज्ञापन है। हालाँकि, यह स्क्रॉलड्रोल की एक पोस्ट थी, जो यह जानना चाहता था कि अगर देवता 21वीं सदी की तकनीक का उपयोग करते तो क्या होता।

स्क्रॉलड्रोल ने इस विज्ञापन की

उस समय, मिंत्रा ने भी एक ट्वीट कर पुष्टि की थी कि यह विज्ञापन उनके द्वारा प्रकाशित नहीं किया गया था। स्क्रॉलड्रोल ने इस विज्ञापन की जिम्मेदारी ली थी। हालाँकि, विज्ञापन 2021 में एक बार फिर ट्विटर पर वायरल हो गया है, जो हिंदुओं को नाराज कर रहा है जो न केवल Myntra का बहिष्कार कर रहे हैं बल्कि Flipkart को अनइंस्टॉल भी कर रहे हैं।

द्रौपदी का चीरहरण

मिंत्रा ने 2021 में इस मुद्दे पर कोई बात नहीं की है। भगवान कृष्ण की वह तस्वीर जिसमें वह द्रौपदी के लिए मिंत्रा ऐप पर साड़ी तलाश करते दिख रहे हैं। बैकग्राउंड में दु:शासन, द्रौपदी का चीरहरण करते दिख रहा है।

2016 का मामला

ये मामला करीब 5 साल पुराना है, साल 2016 में मिंत्रा के बायकॉट की मांग उठी थी। कृष्ण ने ऑनलाइन खोजी लंबी साड़ी, भड़के लोग, मगर एक गलती कर गए। ‘स्क्रॉल ड्रॉल’ नाम की एक वेबसाइट ने ये तस्वीरें अपने एक लिस्टिकल में इस्तेमाल कीं। इस लिस्टिकल के जरिए शायद ‘स्क्रॉल ड्रॉल’ दिखाना चाहती थी कि भगवान भी स्मार्टफोन के एडिक्ट हो गए हैं। साल 2016 की फरवरी में ये लिस्टिकल पब्लिश हुआ था लेकिन इसी साल की जन्माष्टमी पर विवाद शुरु हुआ।

कोई लेना देना नहीं

मिंत्रा ने भी ट्विटर पर बताया कि इस मामले से उसका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि ना तो हमने ये आर्टवर्क बनाया है और ना ही इसे प्रमोट किया है। 26 अगस्त 2016 को ScrollDroll ने ट्वीट करके माफी मांगी और कहा कि इस आर्टवर्क की रिस्पॉन्सिबिलिटी उनकी है और मिंत्रा का इससे कोई लेना-देना नहीं है।

Related Articles