उपचुनाव की हार ने एनडीए में डाली दरार, अपने ही बन गए मोदी सरकार के दुश्मन

पटना। देश के कई लोकसभा और विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों में भाजपा बैकफुट पर आती नजर आई है। साथ ही इस हार ने भाजपा नीत एनडीए में रार भी पैदा कर दी है। इसका उदाहरण है बिहार की जोकीहाट विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव से जिसमें एनडीए के घटक और सूबे में भाजपा के साथ गठबंधन कर सत्ता पर काबिज जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को हार का सामना करना पड़ा है।

दरअसल, जदयू ने जोकीहाट में मिली हार के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। जदयू ने मानना है कि देश में लगातार बढ़ रही पेट्रोल और डीजल की कीमतों की वजह से उपचुनाव में हार मिली है। यह बयान जोकीहाट उपचुनाव का रिजल्ट आने के बाद जदयू के महासचिव केसी त्यागी ने दिया।

केसी त्यागी ने केंद्र की सत्तारूढ़ एनडीए सरकार पर जोकीहाट की हार का ठीकरा फोड़ते हुए कहा कि पूरे देश में पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ गुस्सा है। इसी गुस्से का असर उपचुनाव में भी पड़ा है। हम अपील करते हैं कि पेट्रोल-डीजल की दामों में कटौती होनी चाहिए।

केसी त्यागी ने अपने बयान में कहा कि उपचुनाव के नतीजे एनडीए के लिए चिंता का विषय हैं। एनडीए में अभी सहयोगी अलग-थलग महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दो बड़े दल एक साथ आ गए हैं, इसलिए वहां के नतीजे खतरे की घंटी बन सकते हैं।

एनडीए के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि आज चंद्रबाबू नायडू ने एनडीए का साथ छोड़ दिया है, शिवसेवा बीजेपी के खिलाफ ही लड़ रही है। वहीं अकाली दल खुश नहीं है, INLD साथ छोड़ चुकी है, महबूबा मुफ्ती ने भी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए को दुरुस्त करने की जरूरत है।

जोकीहाट सीट के बारे में उन्होंने कहा कि ये राजद की जीत नहीं है, ये सीट पहले से ही तसलीमुद्दीन के पास थी। अब उनके बेटे ने पार्टी बदल ली है इसी वजह से जीत हुई है।

आपको बता दें कि जोकीहाट सीट पर राजद उम्मीदवार शाहनवाज़ आलम ने करीब 40 हज़ार वोटों से जीत दर्ज की है। राजद की जीत के बाद तेजस्वी यादव ने भी नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला है।

 

Related Articles