CA स्टूडेंट्स के लिए GST बना आफत, अब देने होंगे चार एग्जाम

0

नई दिल्ली। अगर आप भी CA बनने की चाहत रखते हैं तो अब आपको पहले से भी चार गुना ज्यादा मेहनत करनी होगी। सीए में एडमिशन मिलना अब और ज्यादा टफ हो चुका है। इसके अलावा सीए के एंट्रेंस एग्जाम में कुछ बदलाव भी किये गए हैं। पहले एंट्रेंस एग्जाम का नाम कॉमन प्रोफिशिएंसी टेस्ट यानी सीपीटी था जोकि अब बदलकर फाउंडेशन कोर्स कर दिया गया है। इतना ही नहीं पहले सिर्फ दो पेपर होते थे लेकिन अब चार पेपर होंगे।

CA

CA में एडमिशन मिल पाना अब और भी ज्यादा कठिन

बता दें, 11 जुलाई 2017 से सीए के फाउंडेशन कोर्स, इंटरमीडिएट और फाइनल कोर्स के सिलेबस में बदलाव होगा। इसके मुताबिक, पहले 100 नम्बर के दो एग्जाम होते थे लेकिन अब ऐसे ही चार एग्जाम होंगे। इनमें से पहला और दूसरा पेपर सब्जेक्टिव, तीसरा और चौथा पेपर ऑब्जेक्टिव होगा। इतना ही नहीं पेपर नंबर 3 और 4 नेगेटिव मार्किंग में होंगे।

इस लिहाजा से देखा जाये तो सीए में एडमिशन मिल पाना अब और भी ज्यादा कठिन हो गया है। इन सब के अलावा पास होने के लिए हर पेपर में औसतन 50 प्रतिशत और हर सब्जेक्ट में 40 पर्सेंट मार्क्स जरुरी होगा। जो स्टूडेंट्स 1 जुलाई से रजिस्ट्रेशन कराएंगे उनका इस नए कोर्स के हिसाब से पंजीकरण होगा। स्टूडेंट्स को 2018 की मई में नए कोर्स के मुताबिक परीक्षा देनी होगी।

सीए फाइनल एग्जाम में GST का पेपर बतौर आठवें सब्जेक्ट में शामिल किया गया है। इसके कुल आठ एग्जाम होंगे। इसमें इंटरनैशनल टैक्सेशन, इकनॉमिक लॉ, फाइनैंशल सर्विस ऐंड कैपिटल मार्किट आदि सब्जेक्ट्स के रूप में छठा सब्जेक्ट चुना जा जायेगा।

loading...
शेयर करें