CAIT का आरोप, ‘चेतावनी के बावजूद नियमों का उल्लंघन कर रही हैं E-Commerce कंपनियां’, पीयूष गोयल को लिखा पत्र

नई दिल्ली:  कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स Confederation of All India Traders CAIT ने आज सेंट्रल कॉमर्स एंड ट्रेड मिनिस्टर पीयूष गोयल को लिखित पत्र भेजकर देश के व्यापारियों के व्यापार को E-Commerce कंपनियों Amazon एवं Flipkart से बचाने के लिए की FDI policy, 2018 के प्रेस नोट नंबर 2 की जगह एक नया प्रेस नोट तुरंत जारी करने का आग्रह किया है.

CAIT ने कहा है कि Amazon और Flipkart सरकार की चेतावनी के बावजूद भी नियम एवं नीति का लगातार उल्लंघन कर रहे हैं. कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के नेशनल जनरल सेक्रेटरी प्रवीण खंडेलवाल ने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को भेजे लिखित पत्र में कहा कि देश भर के व्यापारी यह समझ नहीं पा रहे हैं कि गोयल द्वारा विभिन्न सार्वजनिक प्लेटफार्मों पर की गई विभिन्न घोषणाओं कि नीति और कानून का उल्लंघन करने की अनुमति किसी को नहीं दी जाएगी, फिर भी ये कंपनियां पिछले 3 वर्षों से FDI नीति और कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ा रही हैं.

FDI Policy के प्रावधानों का खुला उल्लंघन

उन्होंने कहा विभिन्न E-Commerce उद्यम लगातार FDI नीति के Provisions का खुला उल्लंघन कर रहे हैं और यहां तक की इन मामलों में जांच की भी आवश्यकता नहीं है, फिर भी उनके खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. सरकार की नए प्रेस नोट जारी करने की मंशा और E-Commerce नीति को लागू किए जाने की सोच को सरकारी प्रशासन प्रेस नोट न लाकर, दबाने की कोशिश की जा रही है.

Regulatory Authority बनाने की मांग को किया जा रहा है नजरअंदाज

उन्होंने आगे लिखा है कि फुटकर व्यापार को रेगुलेट और उस पर निगरानी करने के लिए एक E-Commerce नीति तैयार करने तथा एक Regulatory Authority को बनाने की मांग को 2019 से नजरअंदाज किया जा रहा है, जिसको देखते हुए व्यापारी इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि E-Commerce जो भारत में भविष्य में व्यापार का तरीका है उसकी कभी भी E-Commerce policy नहीं होगी, क्योंकि भारत का फुटकर व्यापार जो 115 लाख करोड़ रुपये का सालाना व्यापार कर रहा है के लिए भी आज तक कोई नीति नहीं बनी है.

ये भी पढ़ें : Share Market Update : दूसरे दिन भी मजबूती के साथ खुला बाजार, Sensex 50 हज़ार के पार 

Related Articles

Back to top button