वाराणसी में रातभर चला टिड्डियों को भगाने का अभियान, खेत में खुद उतरे डीएम कौशलराज

वाराणसी: देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार के बीच में टिड्डियों का हमला भी बेहद भयावह है। वाराणसी में गुरुवार रात टिड्डियों के दल ने अचानक हमला बोल दिया। जिसको को भगाने के बड़े अभियान के तहत जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा को खुद ही खेत मे उतरना पड़ा। रात दस बजे तक वह फायर ब्रिगेड की टीम के साथ खेत में डटे रहे।

वाराणसी में टिड्डियों का दल गुरुवार सुबह ही प्रवेश कर चुका था। इस बारे में प्रशासन ने पहले किसानों और लोगों को बता दिया था कि टिड्डियों के दो दल मिर्जापुर से शहर की ओर आ रहे हैं। राजा तालाब तहसील के गांवों से टिड्डियों का दल सदर तहसील के गांव चिरईगांव ब्लॉक की तरफ जा रहा है। इसके बाद यह दल राजपुर गांव तक पहुंच गया। जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा इसके बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी और टीम के साथ खेतों में उतर गए। जिलाधिकारी के साथ एसडीएम और बीडीओ समेत कई अफसरों और कर्मचारियों की टीम ने रात भर खेतों से टिड्डियों को भगाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र होने की वजह से इस आपदा को लेकर अधिकारी पहले ही सतर्क थे।

खेत में उतरे जिलाधिकारी

टिड्डियों का एक दल पिंडरा तहसील में देखा गया। वाराणसी में टिड्डियों के आते ही प्रशासनिक अमले ने मोर्चा संभाल लिया। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा की अगुवाई में वाराणसी के पिंडरा ब्लॉक के गांवों में रात से सुबह तक अभियान चलाकर टिड्डियों का खात्मा किया गया।

फायर ब्रिगेड की ली गई मदद

कृषि विभाग और फायर सर्विस के इस संयुक्त अभियान में छह फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों के अलावा 40 मैनुअल स्पेयर की मदद से रात 10 बजे से तड़के तीन बजे तक कीटनाशक दवाओं के छिड़काव का अभियान चलाया गया। इस दौरान खेतों में टिड्डियों को आकर्षित करने के लिए हर तरफ पर्याप्त रोशनी की भी व्यवस्था की गई थी।

मिर्जापुर के हलिया ब्लाक से यहां पहुंचे टिड्डी दल को देख किसान परेशान हो उठे। प्रशासन भी अलर्ट मोड में आ गया। जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने कैंप कार्यालय में आपात बैठक बुलाकर ब्लॉकवार टीमें बनाने एवं पर्याप्त संसाधन तैयार करने के निर्देश दिए। जिले के पिंडरा ब्लाक में राजपुर, गंजारी, अमौत, चितौरा, गोधरी, नेहिया, हरहुआ ब्लाक में पुआरीकलां में आए टिड्डी दल के प्रकोप से फसलों एवं पेड़-पौधों को बचाने के लिए उचित प्रबंध करें। संयुक्त निदेशक, कृषि एसपी शर्मा ने बताया कि टिड्डियों का दल चंदौली होते हुए गाजीपुर की ओर चला गया है। दूसरा टिड्डी दल जौनपुर में देखा गया है जो भदोही से पहुंचा है। इसकी बराबर लोकेशन ली जा रही है। वाराणसी मंडल में सभी कृषि अफसरों व कॢमयों को अलर्ट कर दिया गया है।

800 मीटर लंबा व 200 मीटर चौड़े क्षेत्रफल में फैला था दायरा

मिर्जापुर के कछवां, राजातालाब, भिखारीपुर, वीरभानपुर, मोहनसराय, गंगापुर, सूईचक होते हुए स्थानीय विकास के घाटमपुर, खुलासपुर में टिड्डियों का दल पहुंचा तो किसान टीन, थाली पीटकर शोर मचाने लगे। किसानों को भय था कि टिड्डियों का दल खेतों में न बैठ जाए मगर टिड्डी दल छितौनी, पिसौरपुल के रास्ते हरहुआ क्षेत्र से गुजरते हुए आशापुर की ओर निकल गए। अगर टिड्डियों के दल को नष्ट नहीं किया गया होता तो फसलों की पैदावार प्रभावित होती। हालांकि कुछ तसल्ली इस बात की है कि इस समय कोई खास फसल खेत में नहीं है।

सारनाथ में भी मंडराया

वाराणसी के सारनाथ क्षेत्र के हसनपुर, हृदयपुर, नई बाजार, छांही, दामोदरपुर, गोला, पटेंरवा में दोपहर को पश्चिम दिशा से टिड्डियों का झुंड 25 फीट की ऊंचाई पर खेतों में मंडराने लगा था। किसान खेतों की तरफ दौड़े। बर्तन, थाली टीन आदि बजाकर कपड़ों को हिलाते हुए हल्ला करने लगे तो वे भाग गए। चौबेपुर के डुबकियां में सुबह से ही मंडरा रहे थे। किसान भी मुस्तैद थे। टिड्डियों का दल खरगीपुर डुबकियां, नरपतपुर, तरयां, पूरनपट्टी नारायनपुर, रमना, कोदोपुर, कादीपुर कैथी, गौराउपरवार, भंदहां, राजवाड़ी, चौबेपुर, बर्थरा कला, भगतुआं होते हुए दक्षिण से पश्चिम दिशा से पूर्व दिशा से उत्तर दिशा की ओर आगे बढ़ गया। ङ्क्षपडरा, फूलपुर, करखियाव, ङ्क्षबदा, खालिसपुर कुआर, मंगारी के किसान भी परेशान हुए।

सेटेलाइट से टिड्डियों पर नजर

कल्लीपुर कृषि विज्ञान केंद्र वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि सेटेलाइट के माध्यम से टिड्डियों पर नजर रखी जा रही है। चिरईगांव ब्लाक के खरगीपुर के किसान जितेंद्र पटेल ने टिड्डियों के आने की सूचना कंट्रोल रूम को दी। सूचना पर कृषि विभाग के अधिकारी खरगीपुर गांव पहुंचकर टिड्डियों से सतर्क रहने व भगाने के बारे में जानकारी दी।

Related Articles