कनाडा के प्रधानमंत्री ने चीन को दी चेतावनी, मानवाधिकार उल्लघंन के खिलाफ कनाडा

नई दिल्लीः चीन पर लग रहे मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपों की आंच कनाडा तक पहुंच गयी है। हांगकांग के मुद्दे पर चीन ने कनाडा को चेताने की कोशिश की, तो कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने चीन पर जमकर निशाना साधा है।

दरअसल चीन पर मानवाधिकों के उल्लंघन के आरोप लगना कोई नई बात नहीं है। मगर, हाल ही में कनाडा में अमेरिकी राजदूत कोंग पियू ने कनाडा को चेतावनी भरे अंदाज में कहा था कि, अगर कनाडा हांगकांग में रहने वाले 3 लाख कनाडाई नागरिकों और वहां काम कर रही कंपनियों के लिए फिक्रमंद है तो उसे चीन का साथ देना होगा।

चीनी राजदूत का यह बयान कनाडा में आग की तरह फैल गया, जिसके बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने चीन को जमकर खरी-खोटी सुनाई। ट्रूडो ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि, ‘हम मानवाधिकारों के समर्थन में मजबूती से खड़े रहेंगे। फिर चाहे वह विषय उइगर समुदाय की परेशानियों से संबधित हो या फिर हांगकांग की चिंताजनक स्थिति से संबधित हो।

चीन को अगाह करे हुए जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि, कनाडा अपने सहयोगियों अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और बाकी यूरोपीय देशों के साथ खड़ा है। ये सभी देश मानवाधिकार उल्लंघनों के प्रति काफी चिंतित हैं।

वहीं कनाडाई प्रधानमंत्री के इस बयान के बाद कनाडा की विपक्षी कंजरवेटिव पार्टी के नेता इरिन ओटूले ने चीनी राजदूत के बयान को धमकी करार देते हुए उनसे माफी मांगने की मांग की है। इरिन ने इस संबंध में कहा कि, चीनी राजदूत का बयान स्पष्ट रूप से हांगकांग में रह रहे तीन लाख कनाडाई लोगों को धमकी की तरह है और कोंग को अपने बयान के लिए माफी मांगनी होगी।

Related Articles

Back to top button