सावधान! मौत की वजह बन सकती है विटामिन B12 की कमी..

नई दिल्ली। छोटे बच्चों में लौह तत्व व विटामिन बी12 की खून में कमी व्यवहार संबंधी समस्याओं जैसे कि चिंता व आक्रामकता से जुड़ी हो सकती है। शोध के निष्कर्षो से पता चलता है कि लौह तत्व की कमी, एनीमिया व विटामिन बी12 की कमी की वजह से आठ साल की आयु वाले बच्चों में औसत की तुलना में आक्रमकता और नियमों को तोड़ने जैसे व्यवहार 10 फीसदी ज्यादा होते हैं।

लौह तत्व की कमी आंतरिक समस्याओं जैसे चिंता व अवसाद से जुड़ी होती है।
अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एडुआडरे विल्मर ने कहा कि दिमाग के कुछ हिस्सों का विकास पूरे बाल्यावस्था के दौरान होता है।

उन्होंने कहा कि दिमाग के बेसल गैंग्लिया, हिप्पोकैंपस, अमाईगडला व प्रीफ्रंटल कार्टेक्स की संरचना में बदलाव व्यावहारिक समस्याओं को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। इस शोध का प्रकाशन ‘जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन’ में हुआ है। इसमें शोध दल ने पांच से 12 साल की उम्र के 3,200 बच्चों का परीक्षण किया था।

शरीर में विटामिन B12 की कमी के निम्नलिखित कारण हैं :

Pernicious Anaemia: हजारो में किसी एक को यह रोग होता हैं। Intrinsic Factor यह एक प्रोटीन का प्रकार है जो की विटामिन B12 के अवशोषण के लिए जरुरी होता हैं। कुछ लोगो में इसकी कमी के कारण आहार से विटामिन B12 शरीर में अवशोषण नहीं होता हैं और परिणामतः विटामिन B12 की कमी हो जाती हैं।

जिन लोगो में किसी वजह से operation कर आमाशय या छोटी आंत का कुछ हिस्सा निकाल देते हैं उनमे विटामिन B12 की कमी पाई जाती हैं। जो व्यक्ति केवल शाकाहार लेते हैं और कम प्रमाण में दुग्धजन्य पदार्थ लेते हैं। जो व्यक्ति अम्लपित्त / Acidity से पीड़ित है और उसके लिए PPI दवा हमेशा लेते हैं जैसे की Pantoprazole, Omeprazole इत्यादि। जिन लोगो की पाचन शक्ति कमजोर है या पेट के रोग से पीड़ित हैं। जिन व्यक्तिओ को पेट में व्रण / ulcer हैं।

Related Articles