प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर घोटाला करने वाले 7 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज

मध्यप्रदेश: पन्ना जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में हुए घोटाले पर पुलिस ने 7 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक जिले की नगर परिषद पवई में आवास योजना के पात्र हितग्राहियों की स्वीकृत सूची में छेड़छाड़ करते हुए अपात्रों के नाम जोड़कर उनके बैंक खातों में राशि जारी कर दी गई थी।

इस फर्जीवाड़े में नगर पंचायत अध्यक्ष पवई किरण बागरी, अध्यक्ष पति बृजपाल बागरी, तत्कालीन सीएमओ विजय रैकवार, उपयंत्री विक्रम बागरी समेत सात लोगों के खिलाफ जालसाजी, गबन और भ्रष्टाचार की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। और पूरे मामले की जांच शुरु कर दी है। इस प्रकरण में अब तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें: खुशखबरी…खुशखबरी…’अगले सप्ताह बाजारों में उपलब्ध हो जाएगी कोरोना वैक्सीन’

पुलिस ने बताया कि इस मामले में बड़े पैमाने पर अनियमिततायें होने की शिकायतें मिलने पर कलेक्टर पन्ना ने दो माह पहले जांच के लिए चार सदस्सीय समिति गठित की थी। समिति ने जांच के बाद दी गई अपनी रिपोर्ट में खुलासा करते हुए उल्लेख किया है कि साल 2018-19 में प्रधानमंत्री आवास योजना के 774 हितग्राहियों की कलेक्टर पन्ना द्वारा स्वीकृत सूची में शामिल 139 पात्र हितग्राहियों के नाम हटाकर इतने ही अपात्रों के नाम जोड़े गए हैं। कूटरचना कर दस्तावेजों में हेराफेरी करने के पश्चात अपात्र हितग्राहियों के खातों में आवास की राशि दो-दो लाख रुपए डाल दिए गए।

यह भी पढ़ें: देश में दोहरी मार झेल रही जनता, लगातार पांचवें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

Related Articles