सीएम खट्टर के खिलाफ प्रदर्शन पड़ा महंगा, 13 किसानों पर हत्या और दंगे के प्रयास का केस दर्ज

सीएम खट्टर के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले 13 किसानों पर हरियाणा पुलिस ने हत्या और दंगे के प्रयास का केस दर्ज कर दिया।

अंबाला, नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है। हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के किसान जहां तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर सिंधु बॉर्डर पर अड़े है। वहीँ कुछ किसान मंगलवार को इस बिल के विरोध में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर के काफिले को रोककर काले झंडे दिखाए थे, और लाठियां भी चलाई थीं।सीएम खट्टर के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले 13 किसानों पर हरियाणा पुलिस ने हत्या और दंगे के प्रयास का केस दर्ज कर दिया। हरियाणा पुलिस के इस कदम की कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की है।

हरियाणा पुलिस ने किसानों के खिलाफ अंबाला में ही आईपीसी की धारा 147, 14 8,149, 186, 307,353 और 506 के तहत संगीन धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया है। बता दें कि ये किसान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का काफिला उस वक्त रोक लिए थे, जब वह निकाय चुनाव के लिए पार्टी के प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा संबोधित करने अंबाला शहर में आये हुए थे। पुलिस ने बताया कि कुछ किसानों ने काफिले को रोकने की कोशिश की और कुछ किसानों ने तोड़फोड़ भी की, जिसके कारण रास्ता बाधित हुआ था।

इसे भी पढ़े:बैंक खाते से करोडो रुपए उड़ाने वाले थे जालसाज, एसटीएफ ने धर दबोचा

किसानों पर हत्या का केस, सरकार की हताशा को दर्शाता है- कांग्रेस

पुलिस की इस कार्रवाई की तीखी आलोचना करते हुए हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि किसानों के खिलाफ हत्या और आपराधिक मामले दर्ज करना सरकार की हताशा को दिखाता है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सभी को अपने अधिकार मांगने का अधिकार है, लेकिन जब जनता के अधिकारों को कुचला जायेगा तो जनता मजबूरन सड़को पर उतरेगी। उन्होंने कहा कि काले झंडे दिखाना कौन सा हत्या का प्रयास है, सरकार को किसानों के ऊपर दर्ज मुकदमे तुरंत वापस लेने चाहिए।

Related Articles