देश के कई राज्यों में कैश की किल्लत, यूपी, बिहार, एमपी और गुजरात में नोटबंदी जैसे हालात

0

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में कैश की किल्लत आगई है। इसमें बिहार, गुजरात, एमपी और यूपी के कई शहरों में अचानक एटीएम के बहार नो कैश का बोर्ड लटका हुआ है। नोटबंदी जैसे हालात पैदा हो गए लोग पैसे नहीं निकला पा रहे हैं। इस किल्लत को देखते हुए सरकार और रिजर्ब बैंक ने जरुरी कार्रवाई शुरू कर दी है उम्मीद है कि जल्द ही कोई हल निकल आएगा।

कैश की किल्लत

क्यों हो रही कैश की किल्लत 

रिजर्व बैंक के सूत्रों के मुताबिक त्योहारी मांग की वजह से कैश की कमी हुई है। सूत्रों के मुताबिक जरुरत एक हिसाब से कैश की सप्लाई नहीं हो पाई जिसकी वजह से ये मुश्किल सामने आई है। सूत्रों के ये भी कहना है कि असम, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश आदि राज्यों में लोगों के जरूरत से ज्यादा नकदी निकालने की वजह से यह संकट खड़ा हुआ है।

वहीँ कर्नाटक में चुनाव होने वाले जिसकी वजह से वहां भी रुपयों की मांग ज्यादा बढ़ गई है। फसल के समय किसानों द्वारा भी नकदी की निकासी बढ़ जाती है। कई राज्यों में चुनाव होने वाले हैं, इसकी वजह से इस मसले पर तत्काल राजनीति भी शुरू हो गई। रिजर्व बैंक के मुताबिक एक दो दिनों में स्थिति सामान्य हो जाएगी।

सीएम योगी ने बुलाई बैठक 

वहीँ उत्त्तर प्रदेश में भी कैश की किल्लत को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज बैठक बुलाई है।  यूपी के कई जिलों में कैश नहीं मिल रहा है।  कहा जा रहा है कि सीएम योगी नकदी संकट को लेकर कल वित्त मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिख सकते हैं।

  कैश गायब होना साजिश है 

वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैश किल्लत को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कैश किल्लत को एक साजिश करार दिया है। मुख्यमंत्री ने किसानों की एक सभा में कहा है कि दो हजार के नोट को साजिश के तहत चलन से गायब किया जा रहा है।

बिहार में सबसे ज्यादा किल्लत 

सबसे ज्यादा बिहार में लोगों कैश किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। लगभग सभी एटीएम खाली पड़े हैं।  इस बात को लेकर विपक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर है। पूर्व मुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने कहा है, ‘’एटीएम मशीन में पैसे नहीं है। नोटबंदी के बाद यह सबसे बड़ा घोटाला है। अगर इस मामले की जांच कराई जाए तो कई बड़े लोग फंस जाएंगे। ’’

loading...
शेयर करें