जातिवादी मानशिकता आज भी हर क्षेत्र में जीवित है: लक्ष्य

लखनऊ: लक्ष्य की महिला टीम ने ” घर घर भीम चर्चा ” अभियान के तहत एक भीम चर्चा का आयोजन लखनऊ के गोमती नगर में स्थित शशि जी के निवास स्थान पर किया। जिसमें “जातिवादी मानशिकता और बहुजन समाज की स्थिति तथा बहुजन समाज में जन्मे महापुरुषों के योगदान पर विस्तार से चर्चा की गई।

जातिवादी मानशिकता आज भी हर क्षेत्र में जीवित है। बहुजन समाज के बच्चों को भी आज के युग में इससे दो चार होना पड़ता है चाहे वह गांव हो, स्कूल, कॉलेज या कोई अन्य संस्थान जहाँ बहुजन समाज के लोग रोजगार करते हो या कोई सामाजिक क्षेत्र ही क्यों ना हो।

ऐसी स्थिति में बच्चों पर क्या गुजरती होगी। इसका अंदाजा वो ही लोग लगा सकते है जो स्वाभिमान को अच्छे से समझते हैं। यह बात लक्ष्य कमांडरों ने अपनी भीमचर्चा के दौरान कही।

उन्होंने जोर देते हुए कहा कि ऐसी मानशिकता से स्वयं ही संघर्ष करना होगा अर्थात् इसके खिलाफ निर्भीकता से आवाज बुलंद करनी होगी, तभी जाकर देश में समानता मिल पायेगी अन्यथा हजारो वर्षों से चली आ रही इस बीमारी से छुटकारा मिलना मुश्किल ही नहीं, असम्भव ही बना रहेगा।

अपने कॉलेजों में इस बीमारी से दो चार हुए बच्चो ने भी अपने अनुभव साझा किये उन्होंने कहा कि हम लोग भी इस बीमारी को जड़ से समाप्त करने के लिए लक्ष्य कमांडरों के साथ मिलकर कार्य करेंगे।

इस भीम चर्चा में लक्ष्य कमांडर संघमित्रा गौतम, लाजो कौशल,देवकी बौद्ध, शशि, सिमरन चौधरी,सृष्टि चौधरी व कुलदीप ने हिस्सा लिया।

Related Articles