बाबरी विध्वंस मामले में CBI कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, आडवाणी-कल्याण सहित 32 बरी

बाबरी विध्वंस मामले में CBI कोर्ट ने सुनाया फैसला, आडवाणी-कल्याण सहित 32 बरी

लखनऊ: आज 28 साल बाद यानी 30 सितंबर 2020 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा गिराए जाने के मामले पर कोर्ट ने फैसला सुना दिया है. कोर्ट में फैसला सुनाते हुये CBI की विशेष कोर्ट में जज एसके यादव ने कहा कि ‘ये घटना पहले से नियोजित नहीं थी. ये एक अकस्मिक घटना थी. जज ने आगे कहा इस घटना के साक्ष्य प्रबल नहीं है.

सुनवाई लखनऊ की CBI कोर्ट में चल रही थी. इस मामले में आज अंतिम फैसला सुनाया गया. वहीं लखनऊ के सत्र न्यायालय में चल रही बाबरी विध्वंस मामले की सुनवाई को लेकर अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था चुस्त दुरूस्त कर दी गई थी.

बता दें कि 1992 में बाबरी मस्जिद के विवादित ढ़ांचे के विध्वंस में कुल 49 आरोपी थे, जिनमें अबतक 17 आरोपियों की मौत हो चुकी है। ऐसे में कोर्ट ने मामले में बाक़ी बचे सभी 32 मुख्य आरोपियों पर फ़ैसला सुनाया है.

कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान –

32 में से 26 लोगों के कोर्ट रूप पहुंच कर हाजरी लगाई था. आडवाणी, जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह और सतीश प्रधान 6 लोग वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़े सुनवाई से जुडें थे. जबकि साध्वी ऋतम्भरा, विनय कटियार, राम विलास वेदातीस, धर्मदास, चंपत राय, पवन पाडेय और लल्लू सिंह लखनऊ की CBI कोर्ट पहुचें थे.

Read it also: हाथरस गैंगरेप: प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर हमला,परिजन रहे गिड़गिड़ाते घमंडी सरकार ने जला दिया शव.

ये थे बाबरी विध्वंस के 32 अभियुक्त के नाम-

लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश वर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोश दूबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण सिंह, कमलेश्वर त्रिपाठी, रामचंद्र, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमर नाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, महाराज स्वामी साक्षी, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धमेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़ व धर्मेंद्र सिंह गुर्जर.

Read it also: हाथरस गैंगरेप: PM मोदी ने CM योगी से की बात, बोले- ‘दोषियों के विरूद्ध कड़ी कर्रवाई हो’

Related Articles

Back to top button