IPL
IPL

CBSE Board Exams: कोरोना के बीच में परीक्षा कराने का फैसला, इन हस्तियों ने की यह अपील

माना जा रहा है कि यह कोरोना कि दूसरी लहर बेहद खतरनाक साबित हो सकती है।

नई दिल्ली: कोरोना के बढ़ते मामलों ने देश की कमर तोड़ रखी है। बड़े-बड़े शहरों महानगरों से लोग अपने घरों की तरफ पलायन करने में लगे हैं। माना जा रहा है कि यह कोरोना कि दूसरी लहर बेहद खतरनाक साबित हो सकती है। इसी बीच सीबीएसई बोर्ड ने कोरोना काल में ऑफलाइन एग्जाम कराने का निर्णय लिया है जो कि काफी चिंताजनक निर्णय है।

सीबीएसई बोर्ड की एग्जाम कराने के फैसले को लेकर काफी दिग्गज लोग आपत्ति जताई है और केंद्रीय शिक्षा मंत्री से अपील की है कि एग्जाम को स्थगित किया जाए।

इन सबके बीच लॉकडाउन में प्रवासियों के लिए मसीहा बनकर उभरे अभिनेता सोनू सूद ने भी ऑफलाइन एग्जाम पर चिंता जताई और इसे रद्द करने की मांग की। इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी समेत कई हस्तियों ने इस पर चिंता जाहिर की है। अभिनेता सोनू सूद ने ट्विटर और इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर करते हुए 2021 में ऑफलाइन होने वाली बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की है।

हुए सोनू सूद ने कहा, ‘हमारे देश में बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं। सीबीएसई के एग्जाम शुरू होने हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कि हमारे छात्र इसके लिए अभी तैयार हैं। जब सउदी अरब में सिर्फ 600 केस थे, तो एग्जाम कैंसिल कर दिए गए हैं। मैक्सिको में सिर्फ 1300 केस थे एग्जाम रद्द कर दिए। कुवैत में 1500 कोरोना के मामलों के चलते एग्जाम कैंसल कर दिए गए। लेकिन देश में 1 लाख 45 हजार केस हैं और हम तब भी सोच रहे हैं परीक्षा करवाने के लिए।

राहुल गांधी ने किया ट्वीट

इससे पहले राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि 4 मई से CBSE की बोर्ड परीक्षाएं कराने के निर्णय पर कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए पुनर्विचार किया जाना चाहिए। राहुल गांधी ने एक ट्वीट में कहा, ‘कोरोना की दूसरी विनाशकारी लहर के मद्देनजर, सीबीएसई की परीक्षा कराने पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए।

वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की छात्रों की मांग पर विचार करने का आग्रह किया है।

वहीं, कांग्रेस नेता सचिन पायल ने ट्वीट कर कहा, ‘देश भर के छात्र 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा को रद्द करने/स्थगित करने या उन्हें ऑनलाइन लेने का अनुरोध कर रहे हैं। मैं सरकार से इसे गंभीरता से लेने का आग्रह करता हूं। बता दें कि 10वीं और 12वीं की बोर्ड 4 मई से शुरू होंगी और 10 जून तक चलेंगी।

यह भी पढ़ें: UPSC Recruitment 2021: UPSC के इन पदों पर निकली वैकेंसी, बिना Exam के होगा Selection

Related Articles

Back to top button