केंद्र, महाराष्ट्र सरकार पर सनातन संस्था पर प्रतिबंध लगाने की ज़िम्मेदारी

0

पणजी: गोवा भाजपा के अध्यक्ष विनय तेंदुलकर ने यहां मंगलवार को कहा कि गोवा में सनातन संस्था पर प्रतिबंध लगाना केंद्र सरकार और महाराष्ट्र के राज्य अधिकारियों की जिम्मेदारी है। सनातन संस्था के सदस्यों के कथित संबंध तर्कवादी गौरी लंकेश और नरेंद्र दाभोलकर की हत्या से जुड़े हैं।

तेंदुलकर से जब यह पूछा गया कि तर्कवादियों की हत्या के मामले में संस्था के सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद, संस्था पर प्रतिबंध लगाया जाएगा? इस पर उन्होंने कहा, “यह केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है या महाराष्ट्र सरकार इसे देखेगी।” संस्था का मुख्यालय गोवा के रामनाथी गांव में है।

इस मामले में उनकी निजी राय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “मैं क्या महसूस करता हूं, या कोई क्या महसूस करता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

उन्होंने कहा कि सनातन संस्था के सदस्यों के इस मामले में जुड़े होने की सच्चाई तब बाहर आएगी, जब अदालत इस संस्था के सदस्यों के खिलाफ मामला शुरू करेगी। वर्ष 2015 में तेंदुलकर ने सनातन संस्था पर प्रतिबंध लगाने की मांग को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगाने की मांग से जोड़ा था।

loading...
शेयर करें