सेक्स वर्करों को तत्काल बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराए केंद्र – सुप्रीम कोर्ट

New Delhi: कोरोना वायरस की वजह से देश में सभी लोगों को गंभीर संकटो का सामना करना पड़ा है, इसी में एक सेक्स वर्कर भी थे, जिन्हे मार्च महीने से ही गंभीर आर्थिक संकटो का सामना करना पड़ा है। सेक्स वर्करों की रोजी रोटी की समस्यायों को देखते हुए सोमवार को सुर्प्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सेक्स वर्करों की समस्या से जुडी एक याचिका की सुनवाई के बाद कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को तत्काल इन सेक्स वर्करों को आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने का निर्देश दिया।

Covid-19 update: HIV+, stigmatised, GB Road sex workers stare at an uncertain future - delhi news - Hindustan Times

 

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को निर्देश दिया है कि सेक्स वर्करों को राशन कार्ड के बिना ही राशन और आवश्यक वस्तुएं मुहैया कराई जाएं। जस्टिस एल नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली पीठ ने सुनवाई करते हुए कहा कि सेक्स वर्करों को राहत देने के लिए ऐसे कदम उठाने चाहिए, जैसे ट्रांसजेंडर समुदाय की मदद के लिए कदम उठाए गए थे। इसके साथ ही यह सुनवाई अगले हफ्ते के लिए स्थगित कर दी गई।

इसे भी पढ़े: केंद्र का सुप्रीम कोर्ट में हलफलनामा, डिजिटल मीडिया पर प्रतिबंध जरुरी

बता दें कि कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉक डाउन में ट्रांसजेंडर समुदाय अपनी समस्याएं बता कर सरकार से भत्ते की मांग की थी, जिसे केंद्र सरकार ने स्वीकार करते हुए मई माह में प्रत्येक ट्रांसजेंडर को 1500 रुपए गुजारा भत्ता दिया था, देशभर में लगभग 4922 ट्रांसजेंडर को करीब 73 लाख रुपए डायरेक्ट खातों में भेजे गए थे।

Related Articles

Back to top button