अपना पैसा निकालने के लिए सेंट्रल गवर्नमेंट बेचेगी NFL, RCF की हिस्सेदारी

नई दिल्ली : सेंट्रल गवर्नमेंट फाइनेंशियल ईयर 2021-22 के अपने डिसइनवेस्टमेंट के टारगेट को पूरा करने के लिए अब नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (NFL) और राष्ट्रीय केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स (RCF) की अपनी हिस्सेदारी बेचने जा रही है। इसी कड़ी में सेंट्रल गवर्नमेंट नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड में अपनी 20% और राष्ट्रीय केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स में अपनी 10% हिस्सेदारी बेचने की फ़िराक में है।

इस मसले के जानकारों की माने तो गवर्नमेंट मौजूदा फिस्कल ईयर में ही इन दोनों कंपनियों की अपनी हिस्सेदारी ऑफर फॉर सेल के जरिये बेच देगी। इस मसले में डिपार्टमेंट ऑफ इंवेस्टमेंट एंड पब्लिक ऐसेट मैनेजमेंट ने इस शेयर सेल को मैनेज करने के लिए 5 मई तक इंट्रेस्टेड मर्चेंट बैंकर्स से बोलियां मांगी हैं।

NFL, RCF की सेल से मिलेंगे 900 करोड़

आप की जानकारी के लिए बता दें कि नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड में सरकार की हिस्सेदारी 74.71% है, वहीं राष्ट्रीय केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स में सरकार की हिस्सेदारी 75% के करीब है। इस कड़ी में नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड में अपनी  20% हिस्सेदारी बेचने से सरकार को 500 करोड़ रुपये मिलेंगे। वहीं, नेशनल केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स की 10% हिस्सेदारी बेचने से सरकारी खाते में 400 करोड़ रुपये आएंगे। फाइनेंशियल ईयर 2021 में टैक्स डिडक्शन के बाद नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड का कुल प्रॉफिट 198 करोड़ रुपये रहा है, वहीं सितंबर, 2020 तक कंपनी का नेटवर्थ 2117 करोड़ रुपये था। नेशनल केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स का टैक्स डिडक्शन के बाद नेट प्रॉफिट 208.15 करोड़ रुपये रहा था। वहीं इस मसले के जानकारों के मुताबिक मार्च 2020 तक कंपनी का नेटवर्थ यानी कुल पूंजी 3186.27 करोड़ रुपये रही थी।

यह भी पढ़ें : Infosys इस साल फ्रेशर्स की बदलेगी तक़दीर, रिक्रूटमेंट की जानकारी के लिए पढ़ें खबर

Related Articles