IPL
IPL

Chaitra Navratri: चैत्र नवरात्रि पर मां दुर्गा के 9 रूपों की होती है खास पूजा, जानें पारण करने की तिथि

चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल से शुरू होने जा रहा है। इस पर्व में मां दुर्गा के नौ रूपों की विशेष पूजा कि जाती है

लखनऊ: शक्ति और उपासना का पर्व चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) 13 अप्रैल से शुरू होने जा रहा है। इस पर्व में मां दुर्गा के नौ रूपों की विशेष पूजा कि जाती है। भक्त 9 दिनों तक नवरात्रि का व्रत रखते हैं। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। जो भक्त मां दुर्गा की पूजा सच्ची श्रद्धा और निष्ठा से करता है उसे मनचाहा फल की प्राप्ति होती है।

तिथियां चंद्र कैलेंडर के अनुसार

वसंत ऋतु की शुरुआत और शरद ऋतु की शुरुआत, जलवायु और सूरज के प्रभावों का महत्वपूर्ण संगम माना जाता है। इन दो समय मां दुर्गा की पूजा के लिए पवित्र अवसर माने जाते है। त्योहार की तिथियां चंद्र कैलेंडर के अनुसार निर्धारित होती हैं। नवरात्रि का पर्व, मां दुर्गा की अवधारणा भक्ति और परमात्मा की शक्ति की पूजा का सबसे शुभ और अनोखी अवधि माना जाता है।

यह पूजा वैदिक युग से पहले, प्रागैतिहासिक काल से चला आ रहा है। ऋषि के वैदिक युग के बाद से नवरात्रि के दौरान की भक्ति प्रथाओं में से मुख्य रूप गायत्री साधना का हैं। नवरात्रि में देवी के शक्तिपीठ और सिद्धपीठों पर भारी मेले लगते हैं। माता के सभी शक्तिपीठों का महत्व अलग-अलग हैं। लेकिन माता का स्वरूप एक ही है। कहीं पर जम्मू कटरा के पास वैष्णो देवी बन जाती है। तो कहीं पर चामुंडा रूप में पूजी जाती है। बिलासपुर हिमाचल प्रदेश मे नैना देवी नाम से माता के मेले लगते हैं तो वहीं सहारनपुर में शाकुंभरी देवी के नाम से माता का भारी मेला लगता है।

व्रत का पारण

चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri) चैत्र मार्च-अप्रेैल के महीने में मनाई जाती है, इसलिए इसे चैत्र नवरात्रि कहा जाता है। 13 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि का आगाज हो रहा है इस दिन से भक्त व्रत रखना शुरू करते हैं। इसी के साथ 22 अप्रैल को व्रत के पारण के साथ चैत्र नवरात्र का समापन होगा।

यह भी पढ़ेHow To Be Safe From Covid-19: स्वस्थ रहने के लिए रखें इन पांच बातों का ध्यान

Related Articles

Back to top button