हाथरस मामले में चंद्रशेखर का पलटवार, ‘बोले- प्रदेश सरकार सिर्फ मुद्दे को भटका रही’

हाथरस मामले में चंद्रशेखर का पलटवार, 'बोले- प्रदेश सरकार सिर्फ मुद्दे को भटका रही'

हाथरस: हाथरस गैंगरेप केस में लगातार राजनितिक जद्दोजहद चल रही है. राज्य सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई सौपने की सिफारिश की है. अब तक इस मामले की जांच एसआईटी कर रही है, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने कहा कि लंबे वक्त तक केस दर्ज नहीं हुआ आखिर 14 दिनो तक मुख्यमंत्री क्या कर रहे थे. सरकार न्याय नहीं दे पा रही है तो आरोप लगा रही है.

अगर मामला कोर्ट में फिर तो जातीय पंचायत क्यों –

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने हाथरस कांड पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर मामला कोर्ट में है तो जातीय पंचायत क्यों हो रही है, प्रदेश सरकार सिर्फ मुद्दे को भटका रही है, आधी रात को पीड़िता के शव को जला दिया और परिजनों को घर में बंद कर दिया गया. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार को सीबीआई पर भरोसा नहीं है इसलिए जज की निगरानी में जांच होना आवस्यक है. गलत करने वालो को सजा मिलनी चाहिए.

अगर जाँच सीबीआई को सौंप दी गई फिर एसआईटी को एक्सटेंशन क्यों –

चंद्रशेखर रावण बोले कि कल को हाथरस में कुछ भी हो जाएगा तो उसका आरोप भीम आर्मी पर लगाया जा सकता है. अगर जाँच सीबीआई को सौंप दी गई है तो फिर एसआईटी को एक्सटेंशन क्यों दिया गया है और अबतक पीड़ित परिवार गांव में क्यों है.

ये भी पढ़ें : शाहीन बाग प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ‘बोला- इस तरह का विरोध स्वीकार्य नहीं’

कुछ जाति के लोग कर रहे है लगातार पंचायत – चंद्रशेखर

भीम आर्मी चीफ ने कहा कि मैं जहां भी पीड़ितों के लिए आवाज उठाता हूं वहां पर केस हो जाता है. लेकिन मैं केस से नहीं डरता. हाथरस में कुछ जाति के लोग लगातार पंचायत कर रहे हैं, लेकिन अगर मैं पांच लोगों के साथ जाता हूं तो माहौल खराब हो जाता है.

एसआईटी लोगों को धमका रही – चंद्रशेखर

भीम आर्मी चीफ ने कहा क्राइम सीन पर जितने सबूत थे वो खत्म किए गए, एसआईटी लोगों को धमका रही है. उन्होंने कहा कि यूपी सरकार को पीड़िता के परिवार को लखनऊ बुलाना चाहिए. चंद्रशेखर ने सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब विवेक तिवारी के परिवार को 48 घंटे के अंदर नौकरी मिल गई थी तो फिर पीड़िता के परिवार को क्यों नहीं मिली. उन्होंने ने कहा की आज किसान पंजाब बंद किये हुए हैं,अगर इस मामले पर भी भारत बंद करना होगा तो बता कर करूंगा.

Related Articles