गायत्री प्रजापति की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, उनके खिलाफ आज दाखिल होगा आरोप पत्र

0

लखनऊ। गैंगरेप के आरोप में पहले से ही जेल में बंद समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता गायत्री प्रजापति की मुश्किलें बढ़ती ही जा रहीं हैं। एक महिला द्वारा समाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर और उनके पति आईपीएस अमिताभ ठाकुर को फर्जी दुष्कर्म मामले में आरोपित गायत्री प्रसाद प्रजापति व उनके साथियों के खिलाफ पुलिस को आज न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल करना है।

गायत्री प्रजापति गैंगरेप के आरोप में पहले से जेल में बंद हैं

एसओ गोमतीनगर विश्वजीत सिंह के मुताबिक, इस मामले की विवेचन एसआइएस से हो रही है। गायत्री प्रजापति के खिलाफ राजधानी लखनऊ की एक अदालत में मामला तय होगा। इस मामले की विवेचन के लिए करने के लिए अधिकारियों को 90 दिन दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें :जानिए, रामपुर में अमिताभ ठाकुर और उनकी पत्नी पर क्यों दर्ज हुआ केस

90 दिन दिन की अवधि के बीच विवेचक को आरोप पत्र या अंतिम रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करना अनिवार्य होता है। लेकिन ये 90 दिन बीत जाने के बाद भी विवेचना नहीं दी गई। सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने एसओ गोमतीनगर से भी इस मामले पर बात की। उन्होंने बताया कि आज आरोप पत्र दाखिल हो जाएगा।

गायत्री प्रजापति

उल्लेखनीय है कि मुलायम सिंह यादव धमकी कांड के बाद 11 जुलाई, 2015 को लखनऊ के थाना गोमतीनगर आईपीएस अमिताभ ठाकुर और उनकी पत्नी डॉ. नूतन ठाकुर के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा लिखवाया गया था। इस मामले की जांच करने के बाद पीड़ित के बयानों में विरोधाभास पाते हुए मुकदमे को झूठा माना गया था।

गौरतलब है कि गायत्री प्रजापति पहले से ही पास्को और गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद है। महिला का आरोप था कि इन लोगों उसकी नाबालिग बेटी का भी यौन शोषण किया हाईकोर्ट के आदेश पर आरोपी मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति समेत अशोक तिवारी, पिंटू सिंह, विकास वर्मा, चंन्द्र पाल, रूपेश और आशीष शुक्ला के खिलाफ थाना गौतमपल्ली में अपराध संख्या 29/11 आईपीसी की धारा 376 डी महिला के साथ गैंग रेप, 376/511 महिला की बेटी के साथ रेप का प्रयास, 504,506 और 3/4 पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज है।

loading...
शेयर करें