राज्यसभा की एक सीट के लिये भाजपा और सपा के बीच शह और मात का खेल

दरअसल,राज्यसभा की दस सीटों के लिये भाजपा के आठ और सपा और बसपा के एक-एक उम्मीदवार ने पर्चा भरा था, जिसके चलते निर्वाचन के निर्विरोध होने की संभवानायें बढ गयी थी।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की एक सीट के लिये बुधवार को दिनभर सत्तारूढ़ भाजपा और मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के बीच शह मात का खेल चला और अंतत: जीत भाजपा की हुई।

दरअसल,राज्यसभा की दस सीटों के लिये भाजपा के आठ और सपा और बसपा के एक-एक उम्मीदवार ने पर्चा भरा था, जिसके चलते निर्वाचन के निर्विरोध होने की संभवानायें बढ गयी थी। लेकिन नामांकन के अंतिम दिन शाम को सपा समर्थित प्रकाश बजाज ने नामांकन कर मुकाबले को रोचक बना दिया।

जल्दबाजी में हुये नामांकन में सपा समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी ने अपना हलफनामा ही अधूरा छोड़ दिया। इसके अलावा प्रस्तावकों ने एक विधायक का नाम गलत भर दिया जिसके चलते नामांकन पत्रों की जांच के बाद बुधवार देर शाम उनका पर्चा पर्चा निरस्त हो गया।

उधर ,बसपा विधायक असलम राईनी, असलम अली चौधरी, हाकिम लाल बिंद, हर गोविंद भार्गव, मुज्तबा सिद्दीकी और सुषमा पटेल ने प्रस्तावक के रूप में अपने हस्ताक्षर को फर्जी करार देते हुये बसपा उम्मीदवार के खिलाफ बगावत कर दी।

सूत्रों के अनुसार 26 अक्टूबर को भी ये बसपा विधायक सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के संपर्क में आ गये थे जिसके बाद सपा ने भाजपा की गणित खराब करने की रणनीति तैयार कर ली थी और नामांकन के आखिरी दिन ऐन मौके पर वाराणसी के प्रकाश बजाज का अपने विधायकों के समर्थन से निर्दलीय पर्चा भरवा दिया लेकिन जल्दबाजी का यह दांव समाजवादी पार्टी के काम नहीं आया।

उन्हाेने बताया कि बसपा विधायकों की बगावत काम नहीं आई। बसपा प्रत्याशी का पर्चा सही पाया गया। ऐसे में अब मतदान की नौबत ही नहीं आएगी।

ये भी पढ़ें- भारत-ब्रिटेन इन्फ्रास्ट्रक्चर पॉलिसी एंड फाइनेंसिंग पर सहमत

Related Articles

Back to top button