मुख्य अतिथि दीपा मलिक ने बढ़ाया दिव्यांग खिलाड़ियों का हौसला

वाराणसी: पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी एवं काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्थापक भारत रत्न पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती पर शुक्रवार को ‘अटल-अजीत मेमोरियल ट्रॉफी-2020’ नेशनल दिव्यांग टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया।

दीपा मलिक ने किया उद्घाटन

विश्वविद्यालय के एमपी थिएटर मैदान में आयोजित इस खास टूर्नामेंट के मुख्य अतिथि अंतरराष्ट्रीय एथलीट एवं राजीव गांधी खेल रत्न सम्मानित दिव्यांग खिलाड़ी पद्मश्री दीपा मलिक ने कुछ गेंद खेल कर मैच का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा, “दिव्यांगों के लिए यह आयोजन अविस्मरणीय है, जो अत्यंत पुण्य अवसर पर आयोजित किया है। अटल बिहारी वाजपेयी हमारे प्रेरणा स्रोत हैं। हमारे लिए बनारस एक एहसास एवं अनुभूति है।” उन्होंने अपनी कविता ‘क्या सपना है तेरा मानव..’ सुना कर सभी को भाव विभोर कर दिया।

‘दिव्यांगता कोई स्थाई स्थिति नहीं’

समारोह के मुख्य वक्ता पूर्व मुख्य आयुक्त दिव्यांश सशक्तिकरण (भारत सरकार) डॉ कमलेश पांडेय ने खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि दिव्यांगता कोई स्थाई स्थिति नहीं है। आज दिव्यांग अपने हौसले तथा विज्ञान के संसाधनों के द्वारा दिव्यांगता के प्रभाव से आसानी से बाहर आ सकते हैं। नगर आयुक्त गौरंग राठी ने कहा कि वाराणसी में एक अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है, जिसमें दिव्यांगों के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

स्मृति चिन्ह देकर खिलाडियों का उत्साहवर्धन

समारोह में विजेता ईस्ट इंडिया टीम तथा उप विजेता नॉर्थ इंडिया टीम को ट्रॉफी देकर सम्मानित किया गया। दोनों टीमों के सभी खिलाड़ियों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर उनका उत्साहवर्धन किया गया।

कार्यक्रम में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलपति प्रो टी एन सिंह समेत अनेक गणमान्य लोग मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: कुशीनगर में मछली पालक की गला रेत कर हत्या, पुलिस ने पांच लोगों को किया गिरफ्तार

Related Articles