मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, देश की संस्कृति एवं प्राचीन स्मारकों को संरक्षित करने का हो प्रयास

राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि हमारी अमूल्य संस्कृति एवं सभ्यता की परिचायक मूर्त एवं अमूर्त विरासतें हमारे ऐतिहासिक स्वरूप को साकार करती है। ये हमारे गौरवमयी इतिहास के जीवंत दस्तावेज है।

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Chief Minister Ashok Gehlot ) ने कहा है कि देश की समृद्ध संस्कृति, प्राचीन स्मारकों और ऐतिहासिक स्थलों को संरक्षित करने का हमारा प्रयास होना चाहिए। गहलोत आज विश्व धरोहर दिवस ( World Heritage Day ) पर अपनी शुभकामनाएं देेते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि राजस्थान ( Rajasthan ) अपनी परंपराओं, किलों और पूजा स्थलों के साथ भारत की सांस्कृतिक विरासत में एक अद्वितीय स्थान रखता है। हमारी विविध और समकालिक विरासत को बचाना चाहिए।

विधानसभा अध्यक्ष डा सी पी जोशी ने देश एवं प्रदेशवासियों को विश्व धरोहर दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा इस मौके पर देश एवं प्रदेश की इन सभी अनमोल धरोहरों की स्वच्छता एवं सुरक्षा का संकल्प लेना चाहिए। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ( Former Chief Minister Vasundhara Raje ) ने कहा कि देश की गौरवमयी संस्कृति एवं विरासत के संरक्षण से मानव जाति के ज्ञान का भण्डार उन्नत होगा तथा बेहतर भारत के निर्माण का सपना भी साकार हो सकेगा। अतः आइए, विश्व विरासत दिवस के अवसर पर देश व प्रदेश की ऐतिहासिक धरोहरों को संजोए रखने एवं संरक्षण का संकल्प लें।

भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) के प्रदेश अध्यक्ष डा सतीश पूनियां ने इस अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए प्रदेशवासियों का आह्वान किया कि इस मौके हमें अपने आस-पास की ऐसी इमारतें जो ऐतिहासिक आधार रखती हो, उनको हेरिटेज राजस्थान हेस्टेग के साथ शेयर करना चाहिए। केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि हमारी अमूल्य संस्कृति एवं सभ्यता की परिचायक मूर्त एवं अमूर्त विरासतें हमारे ऐतिहासिक स्वरूप को साकार करती है। ये हमारे गौरवमयी इतिहास के जीवंत दस्तावेज है।

यह भी पढ़े: Kumbh 2021: हरिद्वार से वापस आने वाले लोगों पर, केजरीवाल सरकार ने लगाया यह नियम

Related Articles