मुख्यमंत्री योगी ने गोंडा में बाढ़ प्रभावित इलाकों का किया हवाई सर्वेक्षण

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को गोंडा में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान उन्होंने बाढ़ पीड़ितों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि आपदा पीड़ितों की मदद के लिए केंद्र व राज्य दोनों ही सरकारें जनता की पूरी मदद करेंगी।

योगी ने बाढ़ व भारी बारिश से प्रभावित जिलों का दौरा किया और राहत व बचाव कार्य की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से युद्धस्तर पर राहत व बचाव कार्य करने की अपील की। साथ ही बाढ़ पीड़ितों को स्थायी तटबंध निर्माण का भरोसा भी दिलाया।

योगी ने कहा कि बारिश के मौसम में तटबंध कटने से आसपास के लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ता है। इसे रोकने के लिए स्थायी तटबंध का निर्माण जरूरी है। बाढ़ पीड़ितों का हाल जानने पालहापुर बाढ़ चौकी पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीड़ितों को त्वरित राहत देने का भरोसा दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार की हर स्थिति पर नजर है।

इससे पहले, दोपहर करीब 1 बजकर 10 मिनट पर हेलीकॉप्टर से पहुंचे मुख्यमंत्री ने अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। कैसरगंज के सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने उन्हें स्थिति की संक्षिप्त जानकारी दी।

इस दौरान मंत्री रमापति शास्त्री, उपेंद्र तिवारी, पूर्व सांसद सत्यदेव सिंह, विधायक अजय प्रताप सिंह उर्फ लल्ला भैया, बावन सिंह, प्रभात वर्मा, प्रतीक भूषण सिंह, जिलाध्यक्ष हियुवा शारदा कांत पांडे, पीयूष मिश्रा के अलावा मंडलीय व जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

घाघरा नदी का जलस्तर बढ़ जाने से एग्लिन-चरसड़ी तटबंध टूट गया है। तटबंध टूटने से 36 गांवों में घाघरा का पानी घुस गया है। इस कारण गोंडा व बाराबंकी जिलों में कोहराम मच गया है।

Related Articles

Back to top button