आतंकी मुठभेड़ में मारे गए शहीद पिता को बच्चोंं ने दी नम आंखो से श्रद्धांजलि

देहरादून। शायद हम और आप कभी यह अंदाजा भी नहीं लगा पाएंगे कि शहीदों के शव को देखकर परिवारजनों का क्या हाल होता है। सालों से घर से दूर रह रहे सैनिकों का घर वाले बेसब्री से इंतजार रहे होते हैं, उनका इंतजार खत्म होता लेकिन जब घर उसकी जगह उसका पार्थिव शरीर पहुंचते तो उस समय का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। ऐसा ही कुछ हाल हर्रावाला, सिद्धपुरम स्थित आवास में लाया गया जिसके बाद उसके घर में कोहराम मच गया।

मंगलवार के दिन आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुए दीपक नैनवाल का शव को उसके घर अंतिम दर्शन के लिए लाया गया। शव देखकर परिवारजनों का हाल बेहाल था। इसके बाद हरिद्वार में सैन्य सम्मान के साथ शहीद जवान का अंतिम संस्कार किया गया। शव घर पहुंचा तो शहीद के परिवार में कोहराम मच गया। घर में मातम पसर गया। परिवार का हाल बताते हुए कहा जा रहा शहीद की मां बेसुध हो पड़ी वहीं बच्चों ने उन्हें नम आंखो से सलामी देकर विदा किया।

इस दौरान उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी श्रद्धाजंलि देने पहुंचे और परिवार को ढांढस बंधाया। 10 अप्रैल को कश्मीर के अनंतनाग आतंकवादियों से लोहा लेते हुए शहीद दीपक नैनवाल का शव नाइन महार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर अजय सिंह शेखावत की अगुवाई में सैनिक टुकड़ी लेकर पहुंची। कहा जा रहा है शोक संवेदना का सिलसिला अभी तक जारी है।

Related Articles