वास्तविक नियंत्रण रेखा से सटे क्षेत्रों से चीन ने 10,000 सैनिकों को पीछे बुलाया

नई दिल्ली : भारत और चीन (India and China) के बीच पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control) के नजदीक क्षेत्रों से चीन ने अपने करीब 10000 सैनिकों को पीछे बुला लिया है। हालांकि सीमाई इलाकों में दोनों देशों की सेनाएं अभी भी एक-दूसरे के आमने-सामने हैं। बता दें कि भारत और चीन (India and China) के बीच पिछले करीब 8 महीनों से लद्दाख (Ladakh) में गतिरोध बना हुआ है।

सूत्रों के अनुसार चीन पूर्वी लद्दाख क्षेत्र (East Ladakh Region)और उसके आसपास इलाकों के प्रशिक्षण क्षेत्रों से करीब 10000 सैनिकों को वापस बुला लिया है। सीमाई इलाकों से करीब डेढ़ सौ किलोमीटर दूर चीनी सेना यहां करीब 50,000 पीएलए (People’s Liberation Army) के जवानों को रोक रखा था। चीन द्वारा जवानों को हटाने का स्पस्ट कारण तो नहीं पता चला, लेकिन अनुमान के मुताबिक अत्यधिक सर्दी वाले क्षेत्रो में भारी मात्रा में सैनिकों को ज्यादा दिन तक रोक के रखना आसान नहीं था। इसी क्षेत्र में चीन अपने भारी हथियारों को रखा है।

इसे भी पढ़े: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ तेज हुई महाभियोग प्रक्रिया, समयपूर्व पद छोड़ने का बढ़ा दबाव

बता दें कि दोनों देशो के बीच कई दौर की राजनयिक और मिलिट्री स्तर की बातचीत के बाद भी समझौता नहीं हो सका है। भारतीय सेना (Indian Army) चीन के किसी भी उकसावे का जवाब देने के लिए बराबर मात्रा में सैनिक तैनात किये है। चीन की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखते हुए दक्षिणी पैंगोंग झील के रेचेन ला और रिहांग ला महत्वपूर्ण रणनीतिक क्षेत्रों को अपने कब्ज़े में कर लिया है।

Related Articles

Back to top button