चीन ने भारत और अमेरिका पर साधा निशाना, सीमा विवाद को बताया द्विपक्षीय मसला

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को विराम देते हुए चीन ने भारत और अमेरिका के रिश्तों पर निशाना साधाते हुए हिंद-प्रशांत नीति की जमकर आलोचना की है।

नई दिल्लीः भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को विराम देते हुए चीन ने भारत और अमेरिका के रिश्तों पर निशाना साधाते हुए हिंद-प्रशांत नीति की जमकर आलोचना की है।

दरअसल चीन के विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता वांग वेनबिन ने बुधवार को भारत और अमेरिका पर निशाना साधते हए कहा कि, अमेरिका को अपनी हिंद-प्रशांत रणनीति को रोकना चाहिए। चीन और भारत के बीच सीमा संबंधी मुद्दा दो देशों के बीच का मामला है। सीमा पर स्थिति अब सामान्य तौर पर स्थिर है और दोनों पक्ष प्रासंगिक मुद्दों का वार्ता व चर्चा के जरिये समाधान कर रहे हैं।

वांग ने अमेरिका की हिंद-प्रशांत नीति की आलोचना करते हुए कहा कि, अमेरिका की हिंद-प्रशांत रणनीति शीतयुद्ध की मानसिकता, टकराव और भू राजनीतिक खेल को बढ़ावा दे रही है।

उन्होंने कहा कि, हिंद-प्रशांत नीति के बाहने अमेरिका अपना प्रभुत्व थोप रहा है। यह नीति क्षेत्र के साझा हितों के विपरीत है। जिसके चलते चीन ने अमेरिका से इस नीति को विराम देने की अपील की है।

वांग ने अमेरिका को संदेश देते हुए कहा कि, क्षेत्रीय विकास के लिए शांतिपूर्ण विकास और सभी को लाभ देने वाली अवधारणा पर फोकस करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि चीनी विदेश मंत्रालय का यह बयान भारत और अमेरिका के बीच हाल  में आयोजित 2+2 वार्ता के बाद आया है। इस वार्ता के दौरान अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी हिंद-प्रशांत नीति पर जोर देते हुए और अप्रत्यक्ष रूप से चीन पर निशाना साधते हुए कहा था कि, नई दिल्ली की संप्रभुता के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में अमेरिका भारत के साथ खड़ा है।

Related Articles

Back to top button