चीन के आक्रामक रुख से घबराया भारत, निपटने के लिए तैयारियां शुरू

0

नई दिल्ली: चीन और भारत की सीमाओं पर छिड़े विवाद के बाद भारत की चिंताएं बढ़ती जा रही हैं।  हाल ही में हुए डोकलाम में भिडंत के बाद चीन बहुत ज्यादा आक्रामक नजर आ रहा है। जिसके मद्देनज़र चीन से मुकाबले के लिए सीमा पर तैयारियां तेज कर दी गई है।

कैग ने जताई आपत्ति

नियंत्रक एवं महालेख परीक्षक (CAG) ने सीमा के सड़क प्रोजेक्ट और भारतीय सैनिकों के पास पर्याप्त गोला-बारूद और हथियारों की कमी की वजह से अपनी नाराजगी व्यक्त की है। जिसके बाद BRO को ज्यादा शक्तियां डिलिगेट की गई हैं। BRO को ज्यादा शक्तियां मिलने से चीन सीमा से सटी सड़कों का निर्माण कार्य जल्द पूरा हो जाएगा। भारत-चीन सीमा सड़क परियोजना के तहत सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण 61 सड़कें बनाई जा रही हैं, जिनकी कुल लंबाई 3,409 किमी है।

रक्षा मंत्रालय का आया बड़ा बयान

इसी बीच रक्षा मंत्रालय ने रविवार को एक बयान में कहा कि यह बीआरओ में बहुत बड़ा बदलाव लाने का इरादा रखता है। ताकि कार्य की गति को बेहतर किया जा सके और सेना की जरूरत के मुताबिक वांछित नतीजे प्राप्त किए जा सकें।

मंत्रालय ने बताया कि सरकार ने बीआरओ को अतिरिक्त प्रशासनिक शक्तियां देने के अलावा स्वदेशी एवं आयातित निर्माण मशीन एवं उपकरण की खरीद के लिए बीआरओ महानिदेशक की वित्तीय शक्तियां बढ़ा कर 100 करोड़ रुपया तक कर दिया है।  साथ ही साथ मंत्रालय ने यह भी बताया कि इन परियोजनाओं को विभागीय या अनुबंधीय प्रणाली के तौर पर पूरा किया जा सकता है। साथ ही, जवाबदेही तय करने को लेकर कार्य की प्रगति की ऑनलाइन निगरानी के लिए एक साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है।

 

 

 

 

 

loading...
शेयर करें