चीन चाहता है गुजरात में बने इस पार्टी की सरकार, वजह जानकर हिल जाएंगे आप

0

नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए कल अंतिम चरण की वोटिंग पूरी हो गई। अब सभी को  18 दिसंबर का इंतजार है क्योंकि उसी दिन नतीजे आने हैं। गुजरात के नतीजों पर सिर्फ भारत की नहीं बल्कि विदेशों में भी चर्चा है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि हमारा सबसे बड़ा दुश्मन चीन चाहता है कि गुजरात में बीजेपी की सरकार बने।

दरअसल, गुजरात पीएम मोदी का गढ़ है और गुजरात चुनाव के नजीतों पर 2019 के लोकसभा चुनाव पर काफी असर पड़ेगा। गुजरात चुनाव ब्रांड मोदी के लिए एक लिटमेस टेस्ट की तरह है। जो यह तय करेगा की आने वाले दो साल सरकार का एजेंडा क्या रहेगा।

मोदी सरकार चीनी कंपनियों के लिए फायदेमंद

चीनी कंपनियां चाहती हैं कि गुजरात में एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ही जीत हो। जिसका कारण है कि अगर बीजेपी जीतती है तो मोदी की रिफॉर्म की प्रक्रिया जारी रहेगी। चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स में कहा गया है कि अगर गुजरात में मोदी को बड़ी जीत मिलती है तो उनका आर्थिक रिफॉर्म का सिलसिला जारी रह सकता है, जिसका इंतजार ही चीनी कंपनियां कर रही हैं। चीन की ओर से पिछले काफी समय से भारत में निवेश की मात्रा बढ़ी है। कई चीनी कंपनियों को यह विश्वास है कि भारत के नए और बड़े बाजार के रूप में तैयार हो रहा है। इसके लिए मोदी सरकार को आर्थिक फैसले ले रही है, वह चीनी कंपनियों के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। चीन की कुछ कंपनियों को डर है कि अगर गुजरात में मोदी की हार होती है तो केंद्र में जो उनके द्वारा कठिन आर्थिक फैसले लिए जा रहे हैं उनपर ब्रेक लग जाएगा।

एक्जिट पोल के हिसाब से बन रही बीजेपी की सरकार

भले ही चीन पाकिस्तान का साथ देता है और भारत के साथ उसकी तनातनी बनी रहती है लेकिन इस बात से हम इंकार नहीं कर सकते कि भारतीय मार्केट में चीन ने अपने आपको स्थापित कर लिया है और हम बहुत हद तक उसपर निर्भर हो गए हैं। अब अगर बात करें गुजरात चुनाव के नतीजों की तो एक्जिट पोल के मुताबिक हर बार की तरह इस बार भी गुजरात में बीजेपी की ही सरकार बन रही है। बाकि 18 दिसंबर को सब साफ हो जाएगा।

loading...
शेयर करें