चीनी दूतावास के आरोप तथ्यात्मक रूप से गलत: विदेश मंत्रालय

अनुराग श्रीवास्तव ने नियमित ब्रीफिंग में कहा कि डाक टिकट जारी करने की तिथि और समय के बारे में भारतीय और चीनी पक्षों के बीच कोई बात नहीं हुई थी।

नयी दिल्ली: भारत ने राष्ट्रीय राजधानी में स्थित चीनी दूतावास के उस आरोप को गलत बताया है जिसमे कहा गया था, “भारत – चीन राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ के अवसर पर प्रस्तावित डाक-टिकट जारी करने के लिए भारतीय पक्ष ने तय समय पर उत्तर नहीं दिया, जिससे यह कार्यक्रम नहीं हो पाया।”

चीनी दूतावास का बयान तथ्यात्मक रूप से गलत

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने नियमित ब्रीफिंग में कहा कि डाक टिकट जारी करने की तिथि और समय के बारे में भारतीय और चीनी पक्षों के बीच कोई बात नहीं हुई थी। चीनी दूतावास का बयान तथ्यात्मक रूप से गलत है।

उन्होंने कहा कि भारत – चीन राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ का शुभारंभ अभी तक नहीं हो पाया है। इसलिए इस संबंध में संयुक्त गतिविधियों को आगे बढ़ाने का प्रश्न ही नहीं उठता है।

‘चीन कोई भी एकतरफ़ा कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे एलएसी प्रभावित हो’

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर स्थिति के बारे में एक सवाल पर प्रवक्ता ने कहा कि भारत बार बार कहता रहा है कि एलएसी पर जो स्थिति है, उसका कारण चीनी पक्ष द्वारा एकतरफ़ा ढंग से एलएसी में बदलाव की कोशिश करना है। भारत लगातार कह रहा है कि चीन को सभी द्विपक्षीय समझौतों का पालन करना चाहिए और कोई भी एकतरफ़ा कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे एलएसी प्रभावित हो।

चीन को अपने वचन और कर्मों में एकरूपता लाने की जरूरत

उन्होंने कहा कि चीन द्वारा भी यही कहा जाता रहा है कि वह द्विपक्षीय समझौतों का सख्ती से पालन कर रहा है तथा भारत के साथ विवाद को परस्पर संवाद के माध्यम से सुलझाना चाहता है जिससे सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता कायम रहे। उन्होंने कहा कि चीन को अपने कर्म और वचनों में एकरूपता लाने की जरूरत है।

अनुराग  श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्ष राजनयिक और सैन्य अधिकारियों के माध्यम से लगातार संपर्क में हैं। हमारी अपेक्षा है कि दोनों पक्ष बातचीत से एक सर्वमान्य समझौते पर सहमत होंगे ताकि एलएसी पर सभी टकराव वाले बिन्दुओं से सेनाओं को पूरी तरह से हटाया जा सके तथा सीमावर्ती क्षेत्रों में पूर्ण रूप से शांति एवं स्थिरता बहाल की जा सके।

ये बी पढ़ें: योगी मंत्रिमंडल द्वारा सैमसंग इंडिया के विशेष प्रोत्साहन प्रस्ताव को मिली मंजूरी

Related Articles