जिला न्यायाधीश के आश्वासन पर क्लेम कोर्ट के वकीलों ने हड़ताल ली वापस

उत्तर प्रदेश में मथुरा के जिला न्यायाधीश यशवन्त कुमार मिश्रा के आश्वासन पर क्लेम कोर्ट के अधिवक्ताओं ने अपनी भूख हड़ताल को वापस से लिया है।

मथुरा: उत्तर प्रदेश में मथुरा के जिला न्यायाधीश यशवन्त कुमार मिश्रा के आश्वासन पर क्लेम कोर्ट के अधिवक्ताओं ने अपनी भूख हड़ताल को वापस से लिया है। क्लेम कोर्ट के अधिवक्ताओं ने सोमवार से भूख हड़ताल पर जाने का नोटिस जिला न्यायाधीश एवं जिला प्रशासन को दे दिया था।

बार एसोसिएशन मथुरा के सचिव सुनील चतुर्वेदी ने रविवार को बताया कि बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सुशील शर्मा के नेतृत्व में बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष डॉ बृज गोपाल शर्मा एवं उमाकांत चतुर्वेदी के प्रतिनिधिमंडल ने नवागत जिला जज यशवंत कुमार मिश्रा से शिष्टाचार भेंट के दौरान उन्हे बार एसोसिएशन मथुरा की ओर से उनका स्वागत कर स्थानीय समस्याओं से अवगत कराया और बताया कि मोटर एक्सीडेंट क्लेम कोर्ट जिला न्यायालय से लगभग दो किलोमीटर दूर एक निर्जन स्थान पर बनाई गई है।

जहां वादकारियो के लिए आने जाने की कोई सार्वजनिक वाहन व्यवस्था नहीं है तथा जिसे लेकर क्लेम कोर्ट में कार्य करने वाले अधिवक्ता करीब एक माह से हड़ताल पर हैं।

प्रतिनिधि मंडल ने शनिवार को जिला जज को यह भी बताया कि क्लेम का कार्य करने वाले अधिवक्ता अजीत तेहारिया, ओमवीर सारस्वत, अरविंद गौतम एवं रघुनाथ राजावत ने तो सोमवार से क्लेम कोर्ट को हटाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठने का निर्णय ले चुके हैं तथा जिसकी सूचना अधिवक्ताओं ने बार एसोसिएशन , जिला जज ,नगर मजिस्ट्रेट व अन्य अधिकारियों को दे दी है।

प्रतिनिधि मंडल को दिया एक सप्ताह के अंदर कोर्ट शिफ्ट करने का आश्वाशन

जिला जज मिश्रा ने कोर्ट को हटाने की मांग को गंभीरता से लिया और बार एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि जो स्थान बार एसोसिएशन जुवेनाइल कोर्ट के स्थान पर क्लेम कोर्ट बनाने के लिए प्रस्तावित कर चुकी है उसका वे अवलोकन करेंगे। उन्होने अधिवक्ताओं की समस्या को गंभीरता से लेते हुए उस पर एक सप्ताह के अंदर कोर्ट शिफ्ट करने की प्रक्रिया शुरू करने का भरोसा प्रतिनिधि मंडल को दिया तथा कहा कि वादकारियो के हितों का पूरा ध्यान रखा जाएगा ।

इसे भी पढ़े:आईएसएल का सातवां सीजन: जैक्सन ने केरला को हार से बचाया

जिला जज मिश्रा ने वकीलों को हड़ताल समाप्त करा कर सोमवार से न्यायिक कार्य करने का सुझाव दिया। जिला जज ने कहा कि बार एसोसिशन की ओर से प्रस्तावित की गई जगह का मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्यूनल के पीठासीन अधिकारी रणधीर सिंह के साथ सोमवार को वे स्वयं निरीक्षण करेंगे साथ ही इस संबंध में उच्च न्यायालय इलाहाबाद के प्रशासनिक जज को भी अवगत कराएंगे।

जिला न्यायाधीश के आश्वासन के बाद बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्यूनल के पीठासीन अधिकारी की मौजूदगी में भूख हड़ताल पर बैठने वाले अधिवक्ताओं से उनकी मुलाकात कराई । बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सुशील शर्मा ने बताया कि क्लेम कोर्ट को अब शिफ्ट कराने की जिम्मेदारी बार एसोसिएशन मथुरा एवं जिला जज की है। सोमवार से अधिवक्ता न्यायिक कार्य करेंगे और भूख हड़ताल पर बैठने के निर्णय को वापस लिया जाता है।

Related Articles

Back to top button