ऐंबुलेंस चालक की हड़ताल पर सीएम योगी नाराज, कहा- अगर किसी मरीज की मौत हुई तो…

लखनऊ: यूपी में 102 और 108 ऐंबुलेंस सेवा के चालक (ambulance driver) सोमवार से हड़ताल पर है और ये आज दूसरे दिन मंगलवार को भी जारी रहा। योगी सरकार (yogi government) सख्त रवैया अपनाने जा रही है और अवरोध उत्पन्न करने वालों पर सख्त कार्रवाई का आदेश दिया है। सरकार के आदेश के मुताबिक एंबुलेंस (ambulance) का संचालन करने वाली कंपनी जीवीके ईएमआरआई ने एंबुलेंस संघ के प्रदेश अध्यक्ष समेत 14 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। इसी के ही साथ सरकार ने हड़ताल करने वाले कर्मचारियों पर एस्मा लगाने की भी चेतावनी दी है।

उत्तर प्रदेश में 4000 ऐंबुलेंस चालक हड़ताल पर हैं। ऐंबुलेंस की हड़ताल पर नाराज हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर ऐंबुलेंस न मिलने की वजह से किसी व्यक्ति की मौत होती है तो ऐंबुलेंस कम्पनी सहित चालकों पर एफआईआर दर्ज होगी। आरोपी ऐंबुलेंस चालक जेल भी भेजे जा सकते हैं।

मरीजों और तीमारदारों की बढ़ी मुश्किलें

एम्बुलेंस कर्मचारियों की हड़ताल के कारण मरीजों और तीमारदारों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मरीजो को न समय पर एम्बुलेंस मिल रही और इस कारण न इलाज मिल रहा है इसी कारण से मरीजों की हालत बिगड़ रही है। एमर्जेन्सी सेवा से जुड़े एम्बुलेंस सेवा से जुड़े कर्मियों के हड़ताल पर जाने की वजह से यूपी की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराने लगी है।

लापरवाही हुई तो होगी कार्रवाई

सीएम योगी ने निर्देश देते हुए कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही की वजह से यूपी में किसी भी मरीज की मौत हुई तो संबंधित अधिकारी/कर्मचारी के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग और गृह विभाग द्वारा इस आदेश का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि हर मरीज को त्वरित चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध हों।

Related Articles