कोरोना को लेकर CM योगी ने दिए सख्त आदेश, कहा- ‘गाइडलाइन्स के नाम पर उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं’

लखनऊ: देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों को देखते हुए राज्य की सभी सरकारें अलर्ट मोड पर आ गई हैं। ऐसे में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के रोकथाम के लिए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं। सीएम योगी ने कहा है कि कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में लोगाें को निरंतर जागरूक किया जाए। और गाइडलाइन्स के नाम पर किसी का भी उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा

सीएम योगी ने अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने कहा कि विवाह समारोह के लिए नजदीकी पुलिस थाना/चौकी को सूचना देकर और कोविड-19 की गाइडलाइन्स का पूर्ण पालन करते हुए यह आयोजन सम्पन्न किए जा सकते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आमजन को कोविड-19 की गाइडलाइन्स का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। गाइडलाइन्स के नाम पर उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और ऐसा करने वालों की जवाबदेही तय की जाएगी। उन्होंने लोगों से कोविड-19 के प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करने की अपील की है।

रोकने पर देनी होगी जवाबदेही

उन्होंने कहा कि प्रदेश में शादी समारोह में बैण्ड बजाने, डीजे बजाने पर कोई रोक नहीं है। यदि कोई पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी बैण्ड बजाने या डीजे बजाने से रोकेगा तो ऐसे कर्मियों की जवाबदेही तय करते हुए कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि शादी समारोह में शामिल होने के लिए अनुमन्य की गई लोगों की संख्या, इस आयोजन में सम्मिलित होने वाले अतिथियों और पारिवारिक सदस्यों के सम्बन्ध में है।

सीएम योगी ने कोविड-19 की मेडिकल टेस्टिंग के कार्य को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कोविड-19 के 1.5 लाख से 1.75 लाख टेस्ट प्रतिदिन किये जाए। इनमें से 40 प्रतिशत टेस्ट आरटीपीसीआर विधि से और शेष 60 प्रतिशत टेस्ट रेपिड एण्टीजन विधि से किए जाए। उन्होंने काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग के कार्य को पूरी गति से संचालित करने के निर्देश भी दिए हैं।

उन्होंने कहा कि सभी जनपदों में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को पूरी सक्रियता से संचालित किया जाए। जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा सुबह कोविड अस्पताल में तथा शाम को इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर में प्रतिदिन अनिवार्य रूप से समीक्षा बैठक आहूत की जाए।

यह भी पढ़ें: एक्शन में सीएम योगी, धान खरीद में लापरवाही बरतने पर कर्मियों पर होगी कार्रवाई

Related Articles