CM योगी बोले, ‘कोरोना के प्रति लापरवाही पड़ सकती है भारी, सतर्कता बरतना जरुरी’

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कोरोना के प्रति लापरवाही भारी पड़ सकती है। इसलिए कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए प्रभावी उपाय जारी रखते हुए लोगों को कोरोना से बचाव के सम्बन्ध में निरन्तर जागरूक किया जाए।

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए निरन्तर सतर्कता बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना के प्रति लापरवाही भारी पड़ सकती है।

CM योगी शुक्रवार को यहां अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 पर प्रभावी अंकुश के लिए निरन्तर सतर्कता एवं सावधानी बरती जाय। उन्होंने कहा है कि कोरोना के प्रति लापरवाही भारी पड़ सकती है। इसलिए कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए प्रभावी उपाय जारी रखते हुए लोगों को कोरोना से बचाव के सम्बन्ध में निरन्तर जागरूक किया जाए।

एन्टी लार्वा रसायनों का नियमित तौर पर छिड़काव

उन्होंने कहा कि आगामी पर्वों की तैयारियों के सिलसिले में बाजारों में बड़ी संख्या में लोग खरीददारी करने के लिए आ रहे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए विभिन्न समूहों की फोकस टेस्टिंग का कार्य प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए। उन्होंने कहा कि डेंगू समेत विभिन्न संचारी रोगों को नियंत्रित करने के लिए एन्टी लार्वा रसायनों का नियमित तौर पर छिड़काव किया जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि फाॅगिंग का कार्य लगातार संचालित हो।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘उत्तर प्रदेश कामगार और श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) आयोग’ के निर्देशों के क्रियान्वयन की जिलास्तर पर समीक्षा की जाए। तत्पश्चात वे स्वयं शासन स्तर पर समीक्षा करेंगे।

कुपोषित परिवारों को गाय उपलब्ध करायी जाए

CM योगी ने कहा कि कुपोषित परिवारों, जिनके पास गाय रखने का स्थान उपलब्ध हो तथा गौ-पालन के इच्छुक हों, उन्हें गो-आश्रय स्थलों से गाय उपलब्ध करायी जाए। गाय के भरण-पोषण के लिए प्रति गाय प्रतिमाह 900 रुपये भी प्रदान किये जाएं। यह व्यवस्था ‘मुख्यमंत्री निराश्रित/बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना’ के तहत की जाए। इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि अब तक 1,052 कुपोषित परिवारों को गोवंश उपलब्ध कराया गया है।

CM योगी ने दिए ठंड के मद्देनजर रैन बसेरों की व्यवस्था करने के निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ठंड के मद्देनजर राहत आयुक्त कार्यालय को सम्पूर्ण प्रदेश में रैन बसेरों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।  उन्होंने कहा कि अगले तीन दिन में रैन बसेरों की सुरक्षा तथा साफ-सफाई के प्रबन्ध करते हुए इन्हें स्थापित कर दिया जाए। रैन बसेरों में गार्ड की व्यवस्था भी की जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि नगर मजिस्ट्रेट, तहसील स्तर पर तहसीलदार तथा थाना स्तर पर थानाध्यक्ष यह सुनिश्चित करें कि फुटपाथ पर सोए लोगों को रैन बसेरों में पहुंचाया जाए। अस्पताल परिसर में खुले में सो रहे मरीजों के तीमारदारों के लिए भी चिकित्सालय परिसर में रैनबसेरा आदि की सुचारु व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा है कि कम्बल वितरण तथा अलाव जलाने के लिए सभी प्रबन्ध अभी से कर लिए जाएं, जिससे जरूरतमंदों को समय से राहत पहुंचाई जा सके।

गौरतलब है कि प्रदेश के राजस्व विभाग द्वारा आगामी शीतलहर में राहत कार्य संचालित करने के लिए धनराशि जारी कर दी गई है। इसके तहत कम्बल वितरण के लिए सभी जिलो को प्रति तहसील 05-05 लाख रुपये तथा अलाव के लिए प्रति तहसील 50 हजार रुपये की धनराशि इस प्रकार कुल 19.25 करोड़ रुपये की धनराशि जारी कर दी गयी है।

ये भी पढ़ें : जर्मन कंपनी ‘वान वेलेक्स’ ने की ताज नगरी आगरा में ‘संयंत्र’ की स्थापना

Related Articles

Back to top button